नई दिल्ली 19, Jul 2024

लेख

1 - एक बार फिर तीसरी पारी खेलेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी

2 - केजरिवाल के जमानत पर रिहा होने पर शुरु हुई नई कवायदें

3 - मतदान की दर धीमी आखिर माजरा क्या

4 - क्यूं चलाना चाहते हैं केजरीवाल जेल से सरकार

5 - 2004-14 के मुकाबले 2014-23 में वामपंथी उग्रवाद-संबंधित हिंसा में 52 प्रतिशत और मृतकों की संख्या में 69 % कमी

6 - कर्तव्य पथ दिखी शौर्य की झलक

7 - फ़ाइनली राम लल्ला अपने आशियाने में हो गये हैं विराजमान

8 - राजस्थान का ऊँट किस छोर करवट लेगा

9 - एक बार फिर गणपति मय हुई माया नगरी मुंबई

10 - पत्रकारिता की आड़ में फर्जीवाड़े के खिलाफ एनयूजे(आई) छेड़ेगी राष्ट्रव्यापी मुहीम

11 - भ्रष्टाचार, तुस्टिकरण एवं परिवारवाद विकास के दुश्मन

12 - एक बार फिर शुरू हुई पश्चिम बंगाल में रक्त रंजित राजनीति

13 - नहीं होगा बीजेपी के लिऐ आसान कर्नाटक में कांग्रेस के चक्रव्यूह को भेद पाना

14 - रद्द करने के बाद भी नहीं खामोश कर पायेंगे मेरी जुबान

15 - उत्तर-पूर्वी राज्यों के अल्पसंख्यकों ने एक बार फिर बीजेपी पर जताया भरोसा

16 - 7 लाख तक की आमदनी टैक्स फ्री

17 - गुजरात में फिर एक बार लहराया बीजेपी का परचम

18 - बीजेपी आप में काँटे की टक्कर

19 - सीमित व्यवस्था के बावजूद धूम-धाम से हो रही है छट माइय्या की पूजा

20 - जहाँ आज भी पुजा जाता है रावण

21 - एक बार फिर माया नगरी हुई गणपतिमय

22 - एक बार फिर लहराया तिरंगा लाल किले की प्राचीर पर

23 - बलवाइयों एवं जिहादियों के प्रति पनपता सहनभूतिक रुख

24 - आजादी के अमृत महोत्सव की कड़ी के रूप में मनाया जा रहा है 8 वाँ विश्व योग दिवस

25 - अपने दिग्गज नेताओं को नहीं संभाल पाई कांग्रेस पार्टी

26 - ज्ञान व्यापी मस्जिद के वजु घर में शिवलिंग मिलने से विवाद गहराया

27 - आखिर क्यूँ मंजूर है इन्हे फिर से वही बंदिशें.....

28 - पाँच में से चार राज्यों में लहराया कमल का परचम

29 - पेट्रोलियम, फर्टिलाइजर एवं खाद्य सामाग्री पर मिलने वाली राहत में लगभग 27 फीसदी की कटौती

30 - जे&के पुलिस के सहायक उप निरीक्षक बाबूराम शर्मा मरणोपरांत अशोक चक्र से संमानित

31 - आखिर कौन होंगे सत्ता के इस महाभोज के सिकंदर

32 - ठेके आन फिटनेस सेंटर ऑफ छा गए केजरीवाल जी तुस्सी

33 - मुख्य सुरक्षा अधिकारी हुए पंचतत्वों विलीन

34 - दिल्ली में यमुना का पानी का बीओडी लेवेल 50 के पार

35 - फूक के कदम रखिए वरना हो सकता है आपका भी अगला नंबर

36 - महंत नरेंद्र गिरी की मौत पर लगे सवालिया निशान

37 - अकाली दल बादल ने लगाई हैट्रिक

38 - सबके साथ,सबके विकास,सबके विश्वास एवं सबके प्रयास से ही लक्ष्य प्राप्ति संभव

39 - जबरन कराया गया बच्ची का अंतिम संस्कार

40 - सिने जगत के ट्रेज्डी किंग को देश का आखरी सलाम

41 - कोरोना से जंग मे योग ही एक आशा की किरण

42 - संक्रमण काल का मंत्र फिट रहें दुरूस्त रहें

43 - एक बार फिर लहराया पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस का परचम

44 - हिंसा एवं टकराव की बिसात पर बंगाल की राजनीति

45 - ट्रेक्टर रैली के नाम पर बलवाइयों का तांडव

46 - 72 वें गणतंत्र दिवस का आकर्षण राम मंदिर की झांकी

47 - किसान आंदोलन का रूख कहीं पंजाब में संभावित चुनाव तो नहीं

48 - बिहार में फिर एक बार यूपीए का परचम

49 - बिहार में इस बार का चुनावी मुद्दा है विकास

50 - जातिगत एवं सांप्रदायिक एंगल से चमकती राजनीति

NTA द्वारा मानदंडों को ताक पर रखकर जय जलाराम स्कूल को बनाया गया था एक्ज़ामिनेशन सेंटर

हाथ में  गोधरा सेशन  कोर्ट में दाखिल  पुलिस उपाधिक्षक एन वी पटेल द्वारा दाखिल किए गये एफिडेविट को लहराते हुए कांग्रेस पार्टी के गुजरात के अध्यक्ष एवं सांसद शक्ति सिंह गोहिल नें  पार्टी के राष्ट्रीय मुख्यालय में पत्रकारों के सामने NEET पर किया एक और खुलासा ।
एक ऐसा स्‍कैम था कि महाराष्‍ट्र, ओडिशा और बिहार और स्‍टेट से... माने जब आप नीट की एग्‍जाम के लिए एप्‍लीकेशन डालते हो, तो आपके पास एक ऑप्‍शन होता है कि आप कौन सा सेंटर पसंद करोगे और अगर उस सेंटर में, एक सेंटर में 300 स्‍टूडेंट बैठ सकते हैं और एप्‍लीकेशन 500 की आ गई, तो फिर कंप्‍यूटराइज्‍ड ड्रॉ होता है कि कौन से स्‍टूडेंट्स वहां जाएंगे, पर आपको चॉइस मिलती है। तो यह एफिडेविट कहता है कि बिहार, ओडिशा, महाराष्‍ट्र और कई राज्‍यों से जिनके साथ इनकी सेटिंग हो गई, उनसे एडवांस पैसे लिए, एडवांस में ब्‍लैंक चेक लिया और उनको कहा गया कि आप जब नीट का एप्‍लीकेशन लिखो, उसमें लिखो कि हमें हमारा सेंटर जय जलाराम स्‍कूल, गुजराती मीडियम ही चाहिए।
गोधरा डिस्ट्रिक्‍ट में, जहां एयरपोर्ट नहीं है सेंटर पर, वहां कोई ओडिशा से, कोई बिहार से, कोई महाराष्‍ट्र से एग्‍जाम देने जा रहा है। क्‍यों जा रहा है- क्‍योंकि एक सेटिंग हुई, इस एफिडेविट की बातें मैं कर रहा हूं, मैं मेरा नहीं कह रहा हूं, डीवायएसपी का एफिडेविट बोल रहा हूं। वहां से लोग आए, सेटिंग यह थी कि आपके बच्‍चे को 100 परसेंट मार्क्स दिलाकर मेडिकल में एडमिशन मिले, तब हम इस ब्‍लैंक चेक में पैसे भरेंगे और कौन सी मेडिकल कॉलेज में आप जाते हो, उसके रेट थे, इसलिए ब्‍लैंक चेक और 10-10 लाख रुपए एडवांस लिए गए।
जय जलाराम स्‍कूल में आप गए और आपके बच्‍चे को कह दिया कि अगर, जो आपके पास पेपर आता है, उसमें आपको जो आन्‍सर आता है, 100 प्रतिशत स्‍योर हो, उसको टिक करो, बाकी ब्‍लैंक छोड़ दो। अच्‍छा नीट के बारे में एक और बात आपको बताता हूं कि जैसे हम सब बाकी एग्‍जाम देते हैं, ऐसे नहीं है। नीट के अंदर ओएमआर होता है, ऑप्‍टीकल मार्क्‍स रिकॉग्‍नाइजेशन शीट। माने एक ऐसा पेपर होता है, जिसके अंदर आपको ऑपशन मिले चार।देश का कैपिटल कौन सा शहर है करके चार जगह दी होती है, तो आपको दिल्‍ली लिखना होता है, उसके सामने एक स्‍क्‍वायर ब्‍लॉक होता है, उसमें आपको स्‍याही से उसको भर देना है और यह ओएमआर शीट ऐसा होता है कि वह कम्‍प्‍यूटर रिकॉग्‍नाइज करता है। फिर आपने एग्‍जाम दे दी, फिर कोई ह्यूमन इंटरवेंशन नहीं होगा, कंप्‍यूटर में वो पेपर डालेंगे, वह कम्‍प्‍यूटर आपको मार्क्स दे देगा। उस ओएमआर शीट में कहा गया कि आपको जो चीज 100 प्रतिशत आती है, वह लिखो, बाकी खाली छोड़ो। फिर क्‍या होता है कि आपने एग्‍जाम दे दी, तो एक बैग में सील होते हैं पेपर्स और उसका कोरियर करना होता है।
 यहां पर जिनका सेटिंग हुआ था उनके नंबर का लिस्‍ट था, वह पुलिस ने रिकवर किया। उसके सामने ब्राउन एंड रेड सर्कल किए थे कि इतने स्‍टूडेंट्स के पैसे आ गए हैं। उस स्‍टूडेंट्स के नाम के सामने जो ओएमआर शीट का शीट नंबर था, वो पेपर निकाले, जहां पर इन्‍होंने नहीं आते थे, वह आंसर नहीं भरे थे, वहां पर इन गुनहगारों ने वहां पर राईट आंसर टिक कर दिए। फिर से बैग को सील किया और कोरियर करके भेज दिया। माने जितने मार्क्स हैं, उतने 100 प्रतिशत मार्क्स क्‍यों मिले – क्‍योंकि स्‍टूडेंट्स को जितना आता था, खुद लिखा 100 प्रतिशत, बाकी जो यह... और एक्‍यूज्‍ड कौन है? मैं उसके बारे में आपको बताता हूं।
एक्‍यूज्‍ड नंबर 1, जो पहला गुनहगार है, वो है तुषार रजनीकांत भट्ट, वो नीट परीक्षा के लिए सेंटर सुपरिटेंडेंट है और वह जय जलाराम स्‍कूल जो है... जय जलाराम पर अभी आप बाद में सुनेंगे कि क्‍या उसका जय-जयकार है, वह मैं बाद में बताऊंगा आपको, पर यह जो जय जलाराम स्‍कूल है, उसके अंदर वह प्रोफेसर है और उसको नीट का डिप्‍टी सेंटर सुपरिटेंडेंट बनाया गया, वह गुनाहगार नंबर एक है। उसके बाद है नंबर 2 पुरुषोत्तम महावीरप्रसाद, वह है पूरे नीट की एग्‍जाम के लिए सिटी कॉर्डिनेटर, माने एक ही सेंटर नहीं, जितने सेंटर्स उधर हैं, उनका सिटी कॉर्डिनेटर है और वह कौन है जय जलाराम का प्रिसिंपल है, जय जलाराम याद रखिएगा आप जरा, क्‍योंकि जय जलाराम की आगे बात आएगी। यह दो मेन एक्‍यूज्ड यह हुए, फिर तीन और लोग हैं। यह दोनों ने क्‍या काम किया – कहलवा दिया स्‍टूडेंट्स को कि तुम्‍हें नहीं आता है, वो ब्‍लैंक छोड़ो। इन दोनों की जिम्‍मेदारी थी कि पेपर्स बक्‍से में सील करें और तुरंत कोरियर करें। इन्‍होंने बक्‍से में पेपर डाले, फिर सील खोला, सही आंसर्स कर दिए टिक, पैक किया बक्‍सा और भेज दिया।
 तीन और लोग पकड़े गए हैं, यह जेल के अंदर हैं यह दोनों लोग, तीन और पकड़े गए हैं, जिसमें एक है परशुराम बिंदनाथ, एक है विनोद आनंद और इन दोनों के ऊपर एक है आरिफ बौरा। इनका काम क्‍या था – कि जो सेटिंग वाले, जो स्‍टूडेंट्स नीट दे रहे हैं उनके मां-बाप को मिलना है, उनसे एडवांस लेना है और ब्‍लैंक चेक लेना है और एक लिस्‍ट बनी थी कि फलां कॉलेज में आपको मिलेगा तो इतना, तो वो ब्‍लैंक चेक इसलिए कि आपको कहां एडमिशन मिलेगा, उसके हिसाब से पैसे भरे जाएंगे।
जय जलाराम स्‍कूल पारवड़ी, गोधरा और पडाल थर्मल, इसके दोनों सेंटर पर से, इसी तरह के विद्यार्थ‍ियों के धांधली के काम हुए। अब यह जो जय जलाराम है, उसको सेंटर दिया गया है। आप सारी जो कानूनी प्रक्रिया, गाइडलाइंस हैं कि सेंटर किसको मिलता है। वह सारी गाइडलाइंस को ताक पर लगाते हुए मोदी जी की सरकार ने जो एनटीए जो सेंटर देती है संस्‍था, जिसमें मोदी जी के चहेते लोग बैठे हैं, उन्‍होंने जय जलाराम एजुकेशन को यह सेंटर दिया। नहीं देना चाहिए था, उनको दिए, एक नहीं, एक से ज्‍यादा दिए और यह जो जय जलाराम है, एक ऐसी एजुकेशन चलाने वाली फर्जी, फ्रॉड लोग हैं यहां पर कि इनको गवर्नमेंट ने 11 स्‍टेंडर्ड के लिए एक क्‍लास की मंजूरी दी थी, जिसमें ज्‍यादा से ज्‍यादा 66 स्‍टूडेंट रह सकते हैं, वहां उन्‍होंने 450 का दाखिला दिया। गुजरात में कानून स्‍टेंडर्ड हैं उससे ज्‍यादा ले लिए, हाईकोर्ट में पिटीशन हुई इनके खिलाफ और 35,28,000 का इसे दंड हुआ, पैनल्‍टी हुई ।

06:32 pm 29/06/2024

संपादक

डा. अशोक बड़थ्वाल

Mobile : 91-9811440461

editor@dhanustankar.com

Slideshow

समाचार

1 - हर एक बच्चे को अच्छी शिक्षा निगम का संकल्प: डॉ शैली ओबेरॉय

2 - राजनीति में हिंसक टिप्प्णी घातक: डॉ सुधांशु त्रिवेदी

3 - श्री अकाल तख्त साहिब हर सिख के लिए सर्वोच्च: सरना

4 - अखिल भारतीय युवा कांग्रेस का सदस्यता अभियान

5 - बिजली का मीटर लगाते वक्त शुल्क लिए जाने के बावजूद भी बिल में एड किया जा रहा है मीटर रेंट

6 - पंजाब में नशे के तस्करों पर नकेल कसने के बजाय नशेड़ियों की हों रही है धर पकड़: बीबी रणजीत कौर

7 - बैड न्यूज को लेकर दर्शकों के इंतजार की घड़ियां खत्म

8 - भाजपा के हस्तक्षेप के बाद दिल्ली के उप राज्यपाल ने 5004 सरकारी शिक्षकों के ट्रांसफर ऑर्डर पर रोक

9 - एक्सीडेंट और कॉन्सपरेसी गोधरा

10 - करतारपुर साहिब के लिए पासपोर्ट की जगह आधार कार्ड को मान्यता को मन्यतार दी जाए: सरना

11 - दिल्ली वाले नैतिकता के आधार पर केजरीवाल सरकार से क्या उम्मीद रखें: मनोज तिवारी

12 - अकाली दल को कमजोर करने की साजिशें विभाजन से पहले भी जारी थीं: सरना

13 - हिंदुओं को हिंसक बताकर अपमानित करने के विरोध में हिंदू शक्ति संगम

14 - अर्जुन तंवर का नवीनतम डेब्यू ट्रैक बंजारे

15 - दिल्ली में हर साल भ्रमण के लिए आने वाले लगभग 25 लाख सैलानियों की व्यवस्था अब होगी आसान

16 - दिल्ली के 5000 सरकारी स्कूल के शिक्षकों के तबादले का मामला राजनीति से प्रेरित था: अतिशी

17 - महावीर इंटरनेशनल एपेक्स की स्वर्ण जयंती

18 - मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने छतरपुर के पास पेड़ गिराने की स्वीकृति दी थी: वीरेन्द्र सचदेवा

19 - बरनाला परिवार भी दशकों से अकाली दल का अहम हिस्सा: सरना

20 - अग्निवीर पर स्वेत पत्र होना चाहिए जारी : कर्नल रोहित चौधरी

21 - इलेक्ट्रॉनिक मार्ट के लकी ड्रा विजेताओं को 50 लाख के पुरस्कार

22 - कुलविंदर कौर का तबादला दुर्भाग्यपूर्ण: सरना

23 - खडूर साहिब क्षेत्र की सेवा करने के लिए लंबित मुकदमे से मुक्त होने के हकदार हैं अमृत पाल : सरना

24 - “किल” द एक्शन थ्रिलर फिल्म 5 जुलाई को देश भर के सिनेमा हॉलों में। होगी रिलीज

25 - 1989 में सिमरनजीत सिंह मान की तरह अमृतपाल को भी मिले संसद में शपथ के लिए अंतरिम जमानत : बीबी रणजीत कौर

26 - NTA द्वारा मानदंडों को ताक पर रखकर जय जलाराम स्कूल को बनाया गया था एक्ज़ामिनेशन सेंटर

27 - दो बार की बारिश से चरमरा गई दिल्ली की व्यवस्था

28 - एक्सीडेंट ऑर कांस्पिरेसी गोधरा होगी 12 जुलाई को सिनेमा घरों में रिलीज

29 - क्यूँ टपका पानी श्रीराम जन्मभूमि मंदिर की छत से बारिश के दौरान

30 - शिरोमणि अकाली दल और ऑपरेशन लोटस सफल नहीं होगा: सरना

31 - शिरोमणि अकाली दल और ऑपरेशन लोटस सफल नहीं होगा: सरना

32 - छात्रों को क़ानून शिक्षा की ओर रूख करना चाहिए: प्रो आदित्य केदारी

33 - 1975 में लोकतंत्र का गला घोटने के लिये कांग्रेस नेताओं को राजघाट जाकर देश से माँगनी चाहिए माफ़ी