नई दिल्ली 23, Jun 2024

लेख

1 - एक बार फिर तीसरी पारी खेलेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी

2 - केजरिवाल के जमानत पर रिहा होने पर शुरु हुई नई कवायदें

3 - मतदान की दर धीमी आखिर माजरा क्या

4 - क्यूं चलाना चाहते हैं केजरीवाल जेल से सरकार

5 - 2004-14 के मुकाबले 2014-23 में वामपंथी उग्रवाद-संबंधित हिंसा में 52 प्रतिशत और मृतकों की संख्या में 69 % कमी

6 - कर्तव्य पथ दिखी शौर्य की झलक

7 - फ़ाइनली राम लल्ला अपने आशियाने में हो गये हैं विराजमान

8 - राजस्थान का ऊँट किस छोर करवट लेगा

9 - एक बार फिर गणपति मय हुई माया नगरी मुंबई

10 - पत्रकारिता की आड़ में फर्जीवाड़े के खिलाफ एनयूजे(आई) छेड़ेगी राष्ट्रव्यापी मुहीम

11 - भ्रष्टाचार, तुस्टिकरण एवं परिवारवाद विकास के दुश्मन

12 - एक बार फिर शुरू हुई पश्चिम बंगाल में रक्त रंजित राजनीति

13 - नहीं होगा बीजेपी के लिऐ आसान कर्नाटक में कांग्रेस के चक्रव्यूह को भेद पाना

14 - रद्द करने के बाद भी नहीं खामोश कर पायेंगे मेरी जुबान

15 - उत्तर-पूर्वी राज्यों के अल्पसंख्यकों ने एक बार फिर बीजेपी पर जताया भरोसा

16 - 7 लाख तक की आमदनी टैक्स फ्री

17 - गुजरात में फिर एक बार लहराया बीजेपी का परचम

18 - बीजेपी आप में काँटे की टक्कर

19 - सीमित व्यवस्था के बावजूद धूम-धाम से हो रही है छट माइय्या की पूजा

20 - जहाँ आज भी पुजा जाता है रावण

21 - एक बार फिर माया नगरी हुई गणपतिमय

22 - एक बार फिर लहराया तिरंगा लाल किले की प्राचीर पर

23 - बलवाइयों एवं जिहादियों के प्रति पनपता सहनभूतिक रुख

24 - आजादी के अमृत महोत्सव की कड़ी के रूप में मनाया जा रहा है 8 वाँ विश्व योग दिवस

25 - अपने दिग्गज नेताओं को नहीं संभाल पाई कांग्रेस पार्टी

26 - ज्ञान व्यापी मस्जिद के वजु घर में शिवलिंग मिलने से विवाद गहराया

27 - आखिर क्यूँ मंजूर है इन्हे फिर से वही बंदिशें.....

28 - पाँच में से चार राज्यों में लहराया कमल का परचम

29 - पेट्रोलियम, फर्टिलाइजर एवं खाद्य सामाग्री पर मिलने वाली राहत में लगभग 27 फीसदी की कटौती

30 - जे&के पुलिस के सहायक उप निरीक्षक बाबूराम शर्मा मरणोपरांत अशोक चक्र से संमानित

31 - आखिर कौन होंगे सत्ता के इस महाभोज के सिकंदर

32 - ठेके आन फिटनेस सेंटर ऑफ छा गए केजरीवाल जी तुस्सी

33 - मुख्य सुरक्षा अधिकारी हुए पंचतत्वों विलीन

34 - दिल्ली में यमुना का पानी का बीओडी लेवेल 50 के पार

35 - फूक के कदम रखिए वरना हो सकता है आपका भी अगला नंबर

36 - महंत नरेंद्र गिरी की मौत पर लगे सवालिया निशान

37 - अकाली दल बादल ने लगाई हैट्रिक

38 - सबके साथ,सबके विकास,सबके विश्वास एवं सबके प्रयास से ही लक्ष्य प्राप्ति संभव

39 - जबरन कराया गया बच्ची का अंतिम संस्कार

40 - सिने जगत के ट्रेज्डी किंग को देश का आखरी सलाम

41 - कोरोना से जंग मे योग ही एक आशा की किरण

42 - संक्रमण काल का मंत्र फिट रहें दुरूस्त रहें

43 - एक बार फिर लहराया पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस का परचम

44 - हिंसा एवं टकराव की बिसात पर बंगाल की राजनीति

45 - ट्रेक्टर रैली के नाम पर बलवाइयों का तांडव

46 - 72 वें गणतंत्र दिवस का आकर्षण राम मंदिर की झांकी

47 - किसान आंदोलन का रूख कहीं पंजाब में संभावित चुनाव तो नहीं

48 - बिहार में फिर एक बार यूपीए का परचम

49 - बिहार में इस बार का चुनावी मुद्दा है विकास

50 - जातिगत एवं सांप्रदायिक एंगल से चमकती राजनीति

बंग भवन के सामने भाजपा ओबीसी मोर्चे ने किया ममता का पुतला दहन

दिल्ली भाजपा ओबीसी मोर्चा अध्यक्ष श्री सुनील यादव के नेतृत्व में आज बंग भवन के सामने ओबीसी मोर्चा द्वारा ममता बनर्जी सरकार के विरोध में विरोध प्रदर्शन किया और ममता बनर्जी का पुतला दहन किया। 
 
कलकत्ता हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से पश्चिम बंगाल में जारी किए गए सभी ओबीसी प्रमाणपत्रों को रद्द करते हुए ममता बनर्जी की तुष्टिकरण की राजनीति पर एक बहुत बड़ा ताला लगा दिया है। दूसरी ओर, एक ओर राहुल गाँधी ने कांग्रेस की पोल खोलते हुए स्वीकार कर लिया है कि कांग्रेस ने आजादी से लेकर 70 सालों तक देश के गरीब, दलित, पिछड़े, आदिवासी एवं महिलाओं के साथ अन्याय किया। विरोध प्रदर्शन में ओबीसी मोर्चा महामंत्री राम खिलाडी यादव, उपाध्यक्ष श्याम कुमार, उपाध्यक्ष हिमांशु यादव, राम नरेश पाल, अनिल राजभर सहित अनेक कार्यकर्त्ता उपस्तिथ रहे। 
विरोध प्रदर्शन को संबोधित करते हुए श्री सुनील यादव ने कहा कि इंडी गठबंधन के सभी घटक दल इसी मानसिकता पर काम कर रहे हैं और वे दलित, ओबीसी और आदिवासियों का हक़ छीन कर मुसलमानों को देना चाहते हैं। जब तक भाजपा है, वह दलित, ओबीसी और आदिवासियों के अधिकारों पर किसी को भी डाका नहीं डालने देगी।
कलकत्ता हाईकोर्ट ने एक जनहित याचिका पर संज्ञान लेते हुए 2010 से 2024 तक तृणमूल कांग्रेस की ममता बनर्जी सरकार ने जितने प्रमाणपत्र ने जारी किए थे, उस सबको रद्द कर दिया है।
कोर्ट ने कहा कि ममता बनर्जी ने बिना कोई सर्वेक्षण कराये 118 मुसलमान जातियों को सीधे OBC वर्ग में शामिल कर के सभी मुसलमानों को आरक्षण का लाभ दे दिया था जो कि संविधान की मूल भावना का सरासर उल्लंघन था।
श्री सुनील यादव ने कहा कि ममता बनर्जी ने पिछड़े वर्ग के अधिकार पर डाका डालते हुए उनसे आरक्षण छीन कर मुसलमानों को देना चाहती हैं, तभी तो हाईकोर्ट का आदेश आने के बाद ममता बनर्जी ने कहा - “मैं कलकत्ता HC के फैसले को स्वीकार नहीं करती हूँ। ओबीसी आरक्षण वैसे ही जारी रहेगा”। यह ममता बनर्जी के अहंकार को दिखाता है और देश के संविधान के खिलाफ तृणमूल और इंडी गठबंधन की सोच को भी दर्शाता है। 
ममता बनर्जी ने हाईकोर्ट के निर्णय पर जिस तरह का बयान दिया है, यह अराजकता का प्रतीक है। यह अदालत की अवमानना तो है ही, संविधान का अपमान तो है ही, साथ ही यह पश्चिम बंगाल की जनता के साथ विश्वासघात भी है क्योंकि हमारे संविधान में धर्म के आधार पर आरक्षण का कोई प्रावधान नहीं है।
जून 2023 में, राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग (एनसीबीसी) ने पाया कि रोहिंग्या और अवैध बांग्लादेशी अप्रवासियों को पश्चिम बंगाल में अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) प्रमाण पत्र प्राप्त हुआ था। एनसीबीसी ने यह भी पाया कि राज्य में हिंदुओं की तुलना में मुस्लिम ओबीसी जातियां अधिक थीं (हालांकि पश्चिम बंगाल में हिंदू बहुसंख्यक हैं)।
 पश्चिम बंगाल में जिन 179 जातियों को ओबीसी का दर्जा ममता बनर्जी सरकार द्वारा दिया गया, उनमें से 118 जातियां मुस्लिम समुदाय से हैं। 
 ममता दीदी, आपकी तुष्टिकरण की राजनीति अब और नहीं चलने वाली। 04 जून को बंगाल की जनता 30 से अधिक लोक सभा सीटों पर कमल खिला कर 400 सीटों से मोदी जी को लगातार तीसरी बार प्रधानमंत्री बनाएगी। इसी दिन से आपकी विदाई का दिन शुरू हो जाएगा।
राहुल गाँधी ने कल एक कार्यक्रम में जिसका कथित तौर पर नाम था संविधान सम्मान सम्मेलन, उसमें स्वीकार किया कि उनकी दादी, उनके पिताजी, उनकी माताजी के समय किस तरह संविधान की धज्जियां उड़ाई जा रही थी और दलित, पिछड़े एवं आदिवासियों का हक़ कांग्रेस की सरकार मार रही थी। आप सच को छुपाने की कितनी भी कोशिश करो लेकिन सच तो सच होता है, वह तो सामने आ ही जाता है। 
कांग्रेस द्वारा पिछड़ों, दलितों और आदिवासियों के शोषण के एक नहीं, कई उदाहरण हैं। कांग्रेस ने 40 साल तक ओबीसी कमीशन को संवैधानिक मान्यता नहीं दी। ओबीसी कमीशन को संवैधानिक मान्यता देने का कार्य यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने किया।
कांग्रेस ने दलित, ओबीसी एवं आदिवासियों के अधिकारों पर डाका डालने का हरसंभव काम किया। कांग्रेस ने अपने शासित राज्यों में दलितों, पिछड़ों और आदिवासियों का आरक्षण छीन कर मुसलमानों को देने का पाप किया। आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में कांग्रेस ऐसा करने के कई प्रयास कर चुकी है। कर्नाटक में तो ओबीसी कोटे में मुसलमानों को डालकर ओबीसी का आरक्षण मुसलमानों को दिया जा रहा है।
 कांग्रेस की सरकार ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी और जामिया मिल्लिया इस्लामिया जैसे शिक्षण संस्थानों में भी ओबीसी, दलित और आदिवासियों का आरक्षण खत्म कर दिया।
 जिस ममता बनर्जी ने ओबीसी का आरक्षण छीनकर मुसलमानों को दिया, मुसलमानों को ओबीसी का दर्जा दिया, उसे कांग्रेस और सपा उत्तर प्रदेश में सीट दे रही है। ये इनकी तुष्टिकरण की राजनीति की पराकाष्ठा है।
बंगाल की ही तरह कांग्रेस ने आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में मुसलमान जातियों को ओबीसी में शामिल कर रही है और धर्म के आधार पर मुसलमानों को आरक्षण दे रही है। कर्नाटक, केरल और आंध्र प्रदेश में उसने विभिन्न समय में तमाम मुसलमानों को ओबीसी में डालकर उनको आरक्षण दिया है। आन्ध्र प्रदेश में चार बार इसका प्रयास किया गया। कर्नाटक में ओबीसी के अंदर कैटेगरी 2B बनाकर सभी मुस्लिम जातियों को आरक्षण दिया गया। 
बाबा साहब का तो कांग्रेस ने कदम कदम पर विरोध किया। बाबा साहब को चुनाव में जीत से रोकने के लिए कांग्रेस ने बार–बार रोड़े अटकाए। बाबा साहब को नहीं दिया गया। बाबा साहब को भारत रत्न तब मिला जब केंद्र में भाजपा के समर्थन से सरकार बनी। कांग्रेस ने संसद में बाबा साहब का तैल चित्र भी नहीं लगने दिया।

08:40 pm 23/05/2024

संपादक

डा. अशोक बड़थ्वाल

Mobile : 91-9811440461

editor@dhanustankar.com

Slideshow

समाचार

1 - राज्यपालों की नियुक्ति में सिखों को भी शामिल किया जाये: बीबी रणजीत कौर

2 - संविधान की रक्षा और सुरक्षा होगी तभी देश मज़बूत होगा: देवेन्द्र यादव

3 - मानसून के मद्देनजर एक्शन प्लान फेज 1 एवं फेज 2 के तहत क्यूआरटी का गठन: डॉ शैली ओबरॉय

4 - दिल्ली में पानी के रिसाव एवं चोरी के लिए भाजपा का 52 स्थानों पर प्रदर्शन

5 - भोगल सहित शिरोमणि अकाली दल के चार नेताओं को किया गया पद मुक्त

6 - प्रोड्यूसर संदीप कपूर के साथ 50 लाख की धोखाधड़ी

7 - चला रहे थे जाति प्रमाणपत्र का फरजीवाड़े एग्जीक्यूटिव मैजिस्ट्रेट। सहित चार गिरफ़्तार

8 - कटरा मारवाड़ी में आग तेज़ी से फैलने के लिए लटकते बिजली के तार ज़िम्मेदार

9 - NEET घोटाले से 24 लाख युवा प्रभावित

10 - कंथल में सिख युवक को खालिस्तानी और अलगाववादी कहकर पीटने की घटना बेहद शर्मनाक:सरना

11 - सरकार की मिलीभागत से हो रही थी मुनक नहर क्षेत्र में पानी की चोरी

12 - हरियाणवी पंजाबी का फ्यूजन है कुड़ी हरियाणा वल दी - छोरी हरियाणे आली

13 - कभी हंसायेगी तो कभी डरायेगी मुंज्या

14 - मनोज त्यागी फ़्रांस में भारत गौरव अवार्ड से संमानित

15 - बजरंग और अली बताती है कि यह देश प्रत्येक भारतीय का है

16 - सांसद होने के नाते कंगना को भाषा व शब्दों का चयन सोच समझकर करना चाहिए: सरना

17 - सेंसेक्स गिरने से 5 क़रोड़ छोटे निवेशकों को 30 लाख करोड़ का नुक़सान: राहुल गांधी

18 - ऑपरेशन ब्ल्यू स्टार को सिख कभी भुला नहीं सकते:सरना

19 - भाजपा की दिल्ली में बड़ी जीत में दलित अनुसूचित समाज का बड़ा योगदान

20 - नवविवाहितों के बीच हंसी-मजाक पर अपना नया गाना किया रिलीज

21 - पाकिस्तान अवैध कब्जे वाला कश्मीर एक विदेशी भूमि है…

22 - बाहरी दुनिया की चकाचौध से प्रभावित देहरादून की लापता लड़कियों को परिवार से मिलाया

23 - आखिर सीबीआई के अनुसंधान में कहां चूक हुई जिसका लाभ राम रहीम को मिला: बीबी रणजीत कौर

24 - महात्मा गांधी की आटोबायोग्राफी और माई एक्सपेरिमेंट विद टरूथ को पढ़कर ठीक से गांधीयन हो जाए:खड़गे

25 - टिप्प्णी मणिशंकर अय्यर की लेकिन सोंच राहुल गांधी की: गौरव भाटिया

26 - धर्मा प्रोडक्शन की ”धड़क 2 “ 22 नवंबर को होगी सिनेमा घरों पे रिलीज़

27 - स्पेन के दूतावास में एसोसिएशन ऑफ टीचर्स ऑफ स्पैनिश का शुभारंभ

28 - अगर स्वास्थ्य खराब था तो वह तीन दिन तक पंजाब में चुनाव प्रचार करने क्यों गए :वीरेंद्र सचदेवा

29 - किसानों के हालत के लिए पंजाब एवं केंद्र की सरकारें प्रत्यक्ष तौर पर ज़िम्मेवार: बीबी रणजीत कौर

30 - दिल्ली में मतदान की दर 53.63 फ़ीसदी

31 - बंग भवन के सामने भाजपा ओबीसी मोर्चे ने किया ममता का पुतला दहन

32 - अब यह मतदाता के ऊपर है कि वह नेशन फर्स्ट की थ्योरी के साथ है या फिर परिवारवाद के

33 - स्पोर्टस ड्रामा फिल्म में बॉलीवुड स्टाइल रोमांस का तड़का - मिस्टर & मिसेज माही