नई दिल्ली 13, Aug 2022

लेख

1 - बलवाइयों एवं जिहादियों के प्रति पनपता सहनभूतिक रुख

2 - आजादी के अमृत महोत्सव की कड़ी के रूप में मनाया जा रहा है 8 वाँ विश्व योग दिवस

3 - अपने दिग्गज नेताओं को नहीं संभाल पाई कांग्रेस पार्टी

4 - ज्ञान व्यापी मस्जिद के वजु घर में शिवलिंग मिलने से विवाद गहराया

5 - आखिर क्यूँ मंजूर है इन्हे फिर से वही बंदिशें.....

6 - पाँच में से चार राज्यों में लहराया कमल का परचम

7 - पेट्रोलियम, फर्टिलाइजर एवं खाद्य सामाग्री पर मिलने वाली राहत में लगभग 27 फीसदी की कटौती

8 - जे&के पुलिस के सहायक उप निरीक्षक बाबूराम शर्मा मरणोपरांत अशोक चक्र से संमानित

9 - आखिर कौन होंगे सत्ता के इस महाभोज के सिकंदर

10 - ठेके आन फिटनेस सेंटर ऑफ छा गए केजरीवाल जी तुस्सी

11 - मुख्य सुरक्षा अधिकारी हुए पंचतत्वों विलीन

12 - दिल्ली में यमुना का पानी का बीओडी लेवेल 50 के पार

13 - फूक के कदम रखिए वरना हो सकता है आपका भी अगला नंबर

14 - महंत नरेंद्र गिरी की मौत पर लगे सवालिया निशान

15 - अकाली दल बादल ने लगाई हैट्रिक

16 - सबके साथ,सबके विकास,सबके विश्वास एवं सबके प्रयास से ही लक्ष्य प्राप्ति संभव

17 - जबरन कराया गया बच्ची का अंतिम संस्कार

18 - सिने जगत के ट्रेज्डी किंग को देश का आखरी सलाम

19 - कोरोना से जंग मे योग ही एक आशा की किरण

20 - संक्रमण काल का मंत्र फिट रहें दुरूस्त रहें

21 - एक बार फिर लहराया पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस का परचम

22 - हिंसा एवं टकराव की बिसात पर बंगाल की राजनीति

23 - ट्रेक्टर रैली के नाम पर बलवाइयों का तांडव

24 - 72 वें गणतंत्र दिवस का आकर्षण राम मंदिर की झांकी

25 - किसान आंदोलन का रूख कहीं पंजाब में संभावित चुनाव तो नहीं

26 - बिहार में फिर एक बार यूपीए का परचम

27 - बिहार में इस बार का चुनावी मुद्दा है विकास

28 - जातिगत एवं सांप्रदायिक एंगल से चमकती राजनीति

29 - हाथरस मामले में तुष्टिकरण की राजनीति

30 - गणपति बप्पा मोरया पुढ़ल बरस तू लोकर आ

31 - बालीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत हत्या या आत्महत्या

32 - आत्मनिर्भर भारत देश के लिये महामंत्र

33 - भूमि पूजन के साथ शुरू हुई राम लला के गृह निर्माण की तैयारी

34 - उत्तर एवं पूर्वोत्तर भारत पर छाया प्राकृति का प्रकोप

35 - साइबर वार ने लिया खतरनाक मोड़

36 - सीमा तनाव के पीछे चीन की दोहरी मानसिक्ता

37 - कोरोना संक्रमण काल में भी सक्रिय है पासों की बिसात पर राजनीति

38 - अनानास मे विस्फोटक पदार्थ डालकर हाथी की हत्या

39 - उड़ीसा एवं वेस्ट बंगाल में तबाही का मंजर

40 - जारी है प्रवासी मजदूरों का भारी संख्या में पलायन

41 - कश्मीर में आज भी सक्रिय जहिादी गतिविधियाँ

42 - परस्पर सदभाव संवाद एवं शांति से होगी कोविड 19 पर विजय

43 - पालघर हत्याकांड की सीबीआई जाँच की माँग

44 - समरथ को नहीं दोष गोसाई

45 - जिला एवं तहसील स्तर पर प्रकाशनों की दुर्दशा का भी जरूरी है संज्ञान

46 - आगामी सप्ताह सख्ति से होगा लाक डाउन के नियमों का अनुपालन

47 - ध्यान एवं शारिरिक क्रियाओं के माध्यम से फिट रहिये स्वस्थ्य रहिये

48 - कोविद 19 से निपटने का महामंत्र संयम और संकल्प

49 - मध्य प्रदेश में बढ़ी कांग्रेस की सिरदर्दी

50 - कुछ इस अंदाज में मिले ट्रंप और मोदी

साधना एवं व्यायाम पर आधारित फालुन दाफा

भौतिकवाद एवं प्रतिस्पर्धा के इस दौर में संतुलन बनाये रखने के लिये जरूरी मस्तिष्क एवं इंद्रियों पर नियंत्रण । उपाय है साधना एवं व्यायाम पर आधारित  फालुन दाफा । चीन में जन्मी इस पद्धति को 114 देशों के 10 करोड़ से भी अधिक लोगों ने अपनाया है । साधना एवं व्यायाम पर आधारित इस पद्धति के नियमित अभ्यास से साधक को बौद्धिक एवं शारीरिक विकास के साथ सत्य, करूणा एवं सहनशीलता से आत्मसात होता है जो कि आज के मशीनी युग में जरूरी है ।

चीन में आदिकाल से बौद्ध भिक्षुओं द्वारा साधित इस पद्धति को सार्वजनिक करने का श्रेय जाता है अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नोबल शांति एवं सखारोव पुरस्कार विजेता श्री ली होंगजी को । श्री होंगजी को इस पद्धति का गुरू भी माना जाता है । 1998 में एक सर्वेक्षण बीजिंग शहर के 200 से अधिक व्यायाम स्थलों पर 12400 लोगों में किया गया । करीब आधे प्रतिभागी 52.6% फालुन दाफा का अभ्यास 1 से 3 वर्ष से कर रहे थे । 49.8% प्रतिभागियों को औसत 3 बीमारियाँ थी ।

सर्वेक्षण के समय 58.5% लोगों ने पूर्ण स्वास्थ्य लाभ 24.9% ने बुनियादी लाभ और 15.7% ने आंशिक लाभ का वर्णन किया । अभ्यास आरम्भ करने के बाद जिन लोगों को अधिक ऊर्जावान महसूस हुआ उनकी संख्या 3.5% से 55.3% बढ़ गयी और 80.3% लोगों ने व्यापक मानसिक स्वास्थ्य लाभ का दावा किया । आखिर यह फालुन दाफा क्या है ? अनुयाइयों के अनुसार फालुन का अर्थ है विधान चक्र और दाफा के मायने हैं महान मार्ग । बौद्धिक विकास के साथ इस पद्धति में शारीरिक विकास के लिये पाँच प्रकार के व्यायामों का सामावेश है ।

 

सहस्त्र हस्त प्रदर्शन - यह व्यायाम शरीर की सभी शक्ति नाड़ियों को खोलता है जिससे शरीर में शक्ति का प्रवाह निर्विघ्न हो सके ।

स्थिर मुद्रा - यह शांत भाव में खड़े रहने का व्यायाम है जिसमें चक्र को थामने की चार मुद्राएं है । व्यायाम के पश्चात सारा शरीर हल्का महसूस करेगा ।

ब्रह्मांड के दो छोरों का भेदन - यह व्यायाम विश्व की शक्ति का शरीर की भीतरी शक्ति के साथ विलय करता है । इससे शरीर कि शुद्धि होती है ।

फालुन दिव्य परिपथ - यह व्यायाम महान दिव्य परिपथ को सक्रिय करता है । यह मानव शरीर कि सभी असामान्य परिस्थितियों को ठीक करता है । इस व्यायाम का उद्देश्य शरीर की सभी शक्ति नाड़ियों को खोलना है ।

दिव्य शक्तियों को सुदृढ करने का व्यायाम व्यक्ति के शक्ति सामर्थ्य और दिव्य शक्तियों को सुदृढ करता है । इस व्यायाम में दोनों पैरों को एक दूसरे के ऊपर रखकर बैठना होता है । पूर्ण कमल मुद्रा उत्तम है परन्तु अर्ध कमल मुद्रा भी स्वीकार्य है । व्यायाम के दौरान ची का प्रवाह बहुत प्रबल होता है और शरीर के आस-पास का शक्ति क्षेत्र बहुत बड़ा होता है ।

फालुन दाफा सीखने  के लिये श्री होंगजी  लिखित निम्न पुस्तकें पढें -

फालुन गोंग रू - इसमें फालुन दाफा के सिधान्तों की चर्चा और अभ्यास का वर्णन दिया गया है । व्यायाम कैसे करें यह उदाहरण द्वारा समझाया गया है ।

ज़ुआन फालुन रू - फालुन दाफा की मुख्य पुस्तक है । जिसमें गुरु ली होंगज़ी के नौ व्याख्यानो का संग्रह है । ज़ुआन फालुन इस पद्धति के लिए एक आवश्यक मार्गदर्शक है।            

www.falundafa.org एवं www.falundafaindia.org  

 

 

 

 

 

05:04 pm 10/01/2020

संपादक

डा. अशोक बड़थ्वाल

Mobile : 91-9811440461

editor@dhanustankar.com

Slideshow

समाचार

1 - कभी गुजरात से पौड़ी गढ़वाल चलके आया था यह गौड़ ब्राह्मणों का काफिला

2 - हमारी जान तिरंगा है हमारी शान तिरंगा है

3 - पंजाब में धर्म प्रचार की आड़ में हो रही है पॉलिटिकल फील्डिंग

4 - कैसे ठिकाने लगाया जाता था नई आबकारी नीति से उगाया गया पैसा

5 - आतंकवादी गतिविधियों से निपटने के लिये मोक ड्रिल का आयोजन

6 - एसजीपीसी द्वारा संचालित विश्रामगृहों से जीएसटी तत्काल प्रभाव से वापिस लिये जाने की मांग

7 - संत मार्गदर्शक मंडल की बैठक में हिंदुओं पर हो रहे जिहादी हमलों की समीक्षा

8 - सीबीआई की जाँच के डर से वापिस ली गई नई आबकारी नीति

9 - वापिस ली गई आबकारी नीति के दोषियों के खिलाफ सीबीआई से जांच की मांग

10 - प्रतिबंधित चाइनीज माँझे के 155 रोल बरामद

11 - दिल्ली के लाल पर एक बार फिर ताजा होंगी भाई लखी शाह वंजारा की लाल किले पर यादें

12 - राम ऑर कृष्ण ही भारत की पहचान

13 - लड़कियों का लिबास धारण कर दिया जाता लूट-पाट की वारदातों को अंजाम

14 - देश संविधान से चलेगा शरियत या जिहाद के नाम से नहीं

15 - बॉर्डर एवं सुनसान इलाकों की चेक पोस्टों पर लगेंगे 180 ऑटोमेटिक नंबर प्लेट डिटेक्शन केमरे

16 - कहीं न कहीं जरूरी है जीएसटी में बदलाव

17 - रोजगार का झांसा देकर किया 23 लाख का झोल

18 - कोरोना संक्रमण काल में अस्पतालों के नवनिर्माण के नाम पर 1256 करोड़ का घोटाला

19 - राजेंद्र नगर से आप प्रत्याशी पर लगा आचार संहिता के उलंघन का आरोप

20 - जगतपुरी की गली नंबर 3 में चल रहा था सट्टे का अवैध अड्डा

21 - डीएसजीएमसी के खातों की न्यायिक जांच की मांग की

22 - नारायणा में बुलडोजर से उजाड़े गयों के अधिकारों की लड़ाई कांग्रेस लड़ेगी

23 - जीएचपीएस स्कूल के मामले में सारी देनदारियों के लिये पूर्व प्रबंधन जवाबदेय

24 - कर्ताधर्ता होने के बावजूद अदालत में मौजूदा प्रबंधन ने जीएसपीएस के स्वामित्व से हाथ खींचे

25 - शहीदी माह में भीषण गर्मी से राहत के लिये छबील सेवा

26 - राज ठाकरे की अयोध्या यात्रा के समर्थन में गुरु माँ कंचन गिरी अपने समर्थकों के साथ मैदान में उतरीं

27 - 15 जरूरतमंद छात्रों की शिक्षा का खर्चा वहन करेगा वर्ल्ड सिख चेंबर ऑफ कामर्स

28 - पटेल नगर में दी गई आग बुझाने की बेसिक ट्रेनिंग

29 - दिल्ली में सरकारी भूमि पर अवैध रूप से कब्जा कर रह रहे घुसपैठियों को नहीं जायेगा बख्शा

30 - डीएमसी अधिनयम के तहत सीलिंग रहा WSCC लीगल सेल की मीटिंग मे चर्चा का मुद्दा

31 - 108 बारी रक्तदान कर कांस्टेबल आशीष दहिया बने स्टार ब्लड डोनर

32 - जल्दी सामने आयेगा डीएसएमसी के अध्यक्ष पद के चुनाव का सच

33 - देश की राजनीति बदलने आये केजरीवाल ने खुद को ही बदल दिया