नई दिल्ली 23, Mar 2023

लेख

1 - उत्तर-पूर्वी राज्यों के अल्पसंख्यकों ने एक बार फिर बीजेपी पर जताया भरोसा

2 - 7 लाख तक की आमदनी टैक्स फ्री

3 - गुजरात में फिर एक बार लहराया बीजेपी का परचम

4 - बीजेपी आप में काँटे की टक्कर

5 - सीमित व्यवस्था के बावजूद धूम-धाम से हो रही है छट माइय्या की पूजा

6 - जहाँ आज भी पुजा जाता है रावण

7 - एक बार फिर माया नगरी हुई गणपतिमय

8 - एक बार फिर लहराया तिरंगा लाल किले की प्राचीर पर

9 - बलवाइयों एवं जिहादियों के प्रति पनपता सहनभूतिक रुख

10 - आजादी के अमृत महोत्सव की कड़ी के रूप में मनाया जा रहा है 8 वाँ विश्व योग दिवस

11 - अपने दिग्गज नेताओं को नहीं संभाल पाई कांग्रेस पार्टी

12 - ज्ञान व्यापी मस्जिद के वजु घर में शिवलिंग मिलने से विवाद गहराया

13 - आखिर क्यूँ मंजूर है इन्हे फिर से वही बंदिशें.....

14 - पाँच में से चार राज्यों में लहराया कमल का परचम

15 - पेट्रोलियम, फर्टिलाइजर एवं खाद्य सामाग्री पर मिलने वाली राहत में लगभग 27 फीसदी की कटौती

16 - जे&के पुलिस के सहायक उप निरीक्षक बाबूराम शर्मा मरणोपरांत अशोक चक्र से संमानित

17 - आखिर कौन होंगे सत्ता के इस महाभोज के सिकंदर

18 - ठेके आन फिटनेस सेंटर ऑफ छा गए केजरीवाल जी तुस्सी

19 - मुख्य सुरक्षा अधिकारी हुए पंचतत्वों विलीन

20 - दिल्ली में यमुना का पानी का बीओडी लेवेल 50 के पार

21 - फूक के कदम रखिए वरना हो सकता है आपका भी अगला नंबर

22 - महंत नरेंद्र गिरी की मौत पर लगे सवालिया निशान

23 - अकाली दल बादल ने लगाई हैट्रिक

24 - सबके साथ,सबके विकास,सबके विश्वास एवं सबके प्रयास से ही लक्ष्य प्राप्ति संभव

25 - जबरन कराया गया बच्ची का अंतिम संस्कार

26 - सिने जगत के ट्रेज्डी किंग को देश का आखरी सलाम

27 - कोरोना से जंग मे योग ही एक आशा की किरण

28 - संक्रमण काल का मंत्र फिट रहें दुरूस्त रहें

29 - एक बार फिर लहराया पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस का परचम

30 - हिंसा एवं टकराव की बिसात पर बंगाल की राजनीति

31 - ट्रेक्टर रैली के नाम पर बलवाइयों का तांडव

32 - 72 वें गणतंत्र दिवस का आकर्षण राम मंदिर की झांकी

33 - किसान आंदोलन का रूख कहीं पंजाब में संभावित चुनाव तो नहीं

34 - बिहार में फिर एक बार यूपीए का परचम

35 - बिहार में इस बार का चुनावी मुद्दा है विकास

36 - जातिगत एवं सांप्रदायिक एंगल से चमकती राजनीति

37 - हाथरस मामले में तुष्टिकरण की राजनीति

38 - गणपति बप्पा मोरया पुढ़ल बरस तू लोकर आ

39 - बालीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत हत्या या आत्महत्या

40 - आत्मनिर्भर भारत देश के लिये महामंत्र

41 - भूमि पूजन के साथ शुरू हुई राम लला के गृह निर्माण की तैयारी

42 - उत्तर एवं पूर्वोत्तर भारत पर छाया प्राकृति का प्रकोप

43 - साइबर वार ने लिया खतरनाक मोड़

44 - सीमा तनाव के पीछे चीन की दोहरी मानसिक्ता

45 - कोरोना संक्रमण काल में भी सक्रिय है पासों की बिसात पर राजनीति

46 - अनानास मे विस्फोटक पदार्थ डालकर हाथी की हत्या

47 - उड़ीसा एवं वेस्ट बंगाल में तबाही का मंजर

48 - जारी है प्रवासी मजदूरों का भारी संख्या में पलायन

49 - कश्मीर में आज भी सक्रिय जहिादी गतिविधियाँ

50 - परस्पर सदभाव संवाद एवं शांति से होगी कोविड 19 पर विजय

बलवाइयों एवं जिहादियों के प्रति पनपता सहनभूतिक रुख

टाइम्स नॉव पर आयोजित एक परिचर्चा में भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता नूपुर शर्मा द्वारा मोहम्मद पैगंबर पर किये गये  खुलासे को बिना दोनों पक्षों की सुनवाई के सर्वोच्च न्यायालय की एक खंडपीठ के दो न्यायधीश द्वारा की गई टिप्पणी आजकल सुर्खियों में है ।  टीवी चैनल को परिचर्चा का विषय एवं राजनीतिक हलकों को जैसे मुद्दा मिल गया हो । गौर फरमाने की बात यह है कि यह फैसला नहीं महज एक टिप्पणी है । माननीय जज साहेबानों ने उदयपुर में कन्हैया लाल की गर्दन काट कर की गई निर्मम हत्या के बाद हत्यारों द्वारा मिसाल के तौर पर सार्वजनिक किये जाने का ठीकरा नूपुर शर्मा पर फोड़ा कहा कि उदयपुर की घटना उनके बयान का ही अंजाम है  साथ ही दिल्ली पुलिस को नूपुर शर्मा  को  गिरफ्तार ना किये जाने पर लगाई फटकार । हालांकि यह उस टीवी डिबेट में प्रतिभागी द्वारा हिन्दू धर्म के खिलाफ इस्तेमाल किये गये अपशब्दो से उत्तेजित हो मात्र प्रतिक्रिया थी ।

यदि टीवी पर आयोजित परिचर्चा के दौरान व्यक्त की गई प्रतिक्रिया को विवादस्पद एवं दंगा भडकाऊ बयान माना जा सकता है तो असुद्दीन ओबेसी के सार्वजनिक तौर पर किये गये के ऐलान को हमारे देश के न्यायविद किस श्रेणी में लेंगे I यदि मामला शाहीन बाग का हो या फिर उत्तर पूर्वी ऑर दक्षिण पूर्वी दिल्ली में भड़के दंगे क्यों अपना लेते हैं राजनीतिक दल एवं न्याय प्रणाली संप्रदाय विशेष के लिये एक पक्षीय रुख I हाल ही में भड़के करौली एवं जहाँगीर पुरी के दंगे किसी से छिपे नहीं हैं I यदि मामला अखलाक का हो या फिर हाथरस का हमारे चंद बुद्धिजीवी एवं वामपंथी दल इंसाफ के लिये मोर्चा तान लेते हैं I वहीं जब बात करौली या फिर उदयपुर की आती है तो समाज के इस विशेष तबके को साँप सूंघ जाता है I बस भाईचारा एवं शांति बनाये रखने का ज्ञान पेला जाता है I क्यूँ नहीं दोनों ही मामले में अपराधियों को सजा की मांग की जाती है I भले ही हम आजादी की 75 वी वर्षगाँठ को आजादी के अमृत उत्सव के रूप में मना लें  लेकिन आजादी के इतने साल बाद भी दलित एवं सांप्रदाय विशेष के तुष्टीकरण की मानसिक्ता आज भी हमारी राजनीतिक एवं न्यायिक प्रणाली में कहीं न कहीं झलक ही जाती है I

हाल ही में दिये गउदयपुर मामले में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अपने बयान में गर्दन काटकर हत्या के बाद सोशल मीडिया में वीडियो वायरल करना नादानी मानते हैं बचकानी हरकत मानते हैं I वही राहुल गांधी जब बात हाथरस की या जहाँगीर पुरी दंगे के दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की आती है तो वह मामले को दलित या संप्रदाय विशेष  पर सितम का रुख देकर इंसाफ का झंडा लेकर दल बल सहित मैदान में कूद जाते हैं I मौजूदा परिप्रेक्ष में जेहन में एक ही सवाल आखिर कब तक चलेगी वर्ग विशेष के तुष्टीकरण के लिये देश में दोहरी मानसिक प्रणाली ........

10:03 pm 01/07/2022

संपादक

डा. अशोक बड़थ्वाल

Mobile : 91-9811440461

editor@dhanustankar.com

Slideshow

समाचार

1 - तख्त श्री हरिमंदिर पटना साहिब की कमेटी ने भी की तिरंगे से छेड़-छाड़ की निंदा

2 - बजरंगियो ने की बाबा साहेब अंबेडकर की प्रतिमा की सफाई

3 - विदेश में तिरंगे के साथ छेड़-छाड़ ऑर वहाँ की सियासत है खामोश

4 - एजंसियों के इशारों पर की गई थी तिरंगे के साथ छेड़-छाड़

5 - असल मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिऐ की गई थी प्रीतपाल सिंह की गिरफ्तारी

6 - रामनवमी पर दिल्ली में 1000 स्थानों पर रामउत्सव

7 - प्रबंधन कमेटी के फंड का दुरपयोग का आरोप

8 - घोटाले में सरकार या फिर सरकार में है घोटाला

9 - आखिर क्यूं बढ़ा शराब की बिक्री पर 5 फीसदी कमीशन 12 फी सदी

10 - गोविंदपुरी मेट्रो स्टेशन के पास से 45 लाख की स्मैक बरामद

11 - आगामी साल में एक लाख स्थानों तक पहुंचना संघ का लक्ष्य

12 - बंदी सिंहों की रिहाई के लिये दमदमा साहिब में हस्ताक्षर अभियान

13 - महिला दिवस पर एलजी ने किया 10 महिला पुलिस अधिकारियों एवं कर्मियों को संमानित

14 - फतेह मार्च की तैयारियों के लिये मनजीत सिंह जीके की अध्यक्षता में पहली बैठक

15 - 1931 की जनगणना के आधार पर अनुसूचित जन जातियों तक ही सीमित रहना चाहिये आरक्षण

16 - जस्सा सिंह रामगढ़िया की 300 वीं जन्म शताब्दि के लिये एक मंच पर इकट्ठे पंथक के विभिन्न घटक

17 - भय-आतंक का चुनाव पश्चिम बंगाल विधानसभा 2021

18 - ग्लोबल सिख ऑथर्स एवं बिजनेस अवार्ड

19 - दिल्ली पुलिस में 4870 नये कांस्टेबल शामिल

20 - सामूहिक रुद्राभिषेक एवं विद्वानों का संमान

21 - ग्रीन ट्रिब्यूनल ने लगाया दिल्ली सरकार पर 6100 करोड़ का जुर्माना

22 - सड़क दुर्घटना में मरने वालों की संख्या 1.5 लाख

23 - गृह मंत्री अमित शाह ने किया दिल्ली पुलिस की 76वीं स्थापना दिवस परेड का निरीक्षण

24 - वर्दी पहनकर 32 लाख की डकैती में शामिल सीआईएसएफ का जवान गिरफ्तार में

25 - जुदा हुऐ हिंदुओं को वापिस लाने के लिऐ 1964 में हुई थी विश्व हिंदू परिषद की स्थापना

26 - सरना के नेतृत्व में मिलेगी दिल्ली में अकली दल को मजबूती

27 - बंदी सिखों की रिहाई के लिये मोर्चे पर लाठीचार्ज को लेकर तीखी प्रतिक्रिया

28 - टला मेयर का चुनाव एक बार फिर फिरा दिल्ली वालों की आशाओं पर पानी

29 - पीएफडब्ल्यूएस ऐनुअल स्पोर्टस मीट 2023 में दिल्ली पुलिस परिवार को 105 में से 46 मेडल हासिल

30 - आगामी 5 फरवरी को ओबीसी संयुक्त संघर्ष समिति तानेगी केजरीवाल सरकार के खिलाफ मोर्चा

31 - रामचरित मानस के मामले को लेकर वीएचपी खटखटायेगी चुनाव आयोग का दरवाजा

32 - 36 बिरादियों ने किया महालक्ष्मी समरसता महायज्ञ

33 - योगी के बयान से मचा राजनीतिक हलकों में हड़कंप