नई दिल्ली 06, Jul 2022

लेख

1 - बलवाइयों एवं जिहादियों के प्रति पनपता सहनभूतिक रुख

2 - आजादी के अमृत महोत्सव की कड़ी के रूप में मनाया जा रहा है 8 वाँ विश्व योग दिवस

3 - अपने दिग्गज नेताओं को नहीं संभाल पाई कांग्रेस पार्टी

4 - ज्ञान व्यापी मस्जिद के वजु घर में शिवलिंग मिलने से विवाद गहराया

5 - आखिर क्यूँ मंजूर है इन्हे फिर से वही बंदिशें.....

6 - पाँच में से चार राज्यों में लहराया कमल का परचम

7 - पेट्रोलियम, फर्टिलाइजर एवं खाद्य सामाग्री पर मिलने वाली राहत में लगभग 27 फीसदी की कटौती

8 - जे&के पुलिस के सहायक उप निरीक्षक बाबूराम शर्मा मरणोपरांत अशोक चक्र से संमानित

9 - आखिर कौन होंगे सत्ता के इस महाभोज के सिकंदर

10 - ठेके आन फिटनेस सेंटर ऑफ छा गए केजरीवाल जी तुस्सी

11 - मुख्य सुरक्षा अधिकारी हुए पंचतत्वों विलीन

12 - दिल्ली में यमुना का पानी का बीओडी लेवेल 50 के पार

13 - फूक के कदम रखिए वरना हो सकता है आपका भी अगला नंबर

14 - महंत नरेंद्र गिरी की मौत पर लगे सवालिया निशान

15 - अकाली दल बादल ने लगाई हैट्रिक

16 - सबके साथ,सबके विकास,सबके विश्वास एवं सबके प्रयास से ही लक्ष्य प्राप्ति संभव

17 - जबरन कराया गया बच्ची का अंतिम संस्कार

18 - सिने जगत के ट्रेज्डी किंग को देश का आखरी सलाम

19 - कोरोना से जंग मे योग ही एक आशा की किरण

20 - संक्रमण काल का मंत्र फिट रहें दुरूस्त रहें

21 - एक बार फिर लहराया पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस का परचम

22 - हिंसा एवं टकराव की बिसात पर बंगाल की राजनीति

23 - ट्रेक्टर रैली के नाम पर बलवाइयों का तांडव

24 - 72 वें गणतंत्र दिवस का आकर्षण राम मंदिर की झांकी

25 - किसान आंदोलन का रूख कहीं पंजाब में संभावित चुनाव तो नहीं

26 - बिहार में फिर एक बार यूपीए का परचम

27 - बिहार में इस बार का चुनावी मुद्दा है विकास

28 - जातिगत एवं सांप्रदायिक एंगल से चमकती राजनीति

29 - हाथरस मामले में तुष्टिकरण की राजनीति

30 - गणपति बप्पा मोरया पुढ़ल बरस तू लोकर आ

31 - बालीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत हत्या या आत्महत्या

32 - आत्मनिर्भर भारत देश के लिये महामंत्र

33 - भूमि पूजन के साथ शुरू हुई राम लला के गृह निर्माण की तैयारी

34 - उत्तर एवं पूर्वोत्तर भारत पर छाया प्राकृति का प्रकोप

35 - साइबर वार ने लिया खतरनाक मोड़

36 - सीमा तनाव के पीछे चीन की दोहरी मानसिक्ता

37 - कोरोना संक्रमण काल में भी सक्रिय है पासों की बिसात पर राजनीति

38 - अनानास मे विस्फोटक पदार्थ डालकर हाथी की हत्या

39 - उड़ीसा एवं वेस्ट बंगाल में तबाही का मंजर

40 - जारी है प्रवासी मजदूरों का भारी संख्या में पलायन

41 - कश्मीर में आज भी सक्रिय जहिादी गतिविधियाँ

42 - परस्पर सदभाव संवाद एवं शांति से होगी कोविड 19 पर विजय

43 - पालघर हत्याकांड की सीबीआई जाँच की माँग

44 - समरथ को नहीं दोष गोसाई

45 - जिला एवं तहसील स्तर पर प्रकाशनों की दुर्दशा का भी जरूरी है संज्ञान

46 - आगामी सप्ताह सख्ति से होगा लाक डाउन के नियमों का अनुपालन

47 - ध्यान एवं शारिरिक क्रियाओं के माध्यम से फिट रहिये स्वस्थ्य रहिये

48 - कोविद 19 से निपटने का महामंत्र संयम और संकल्प

49 - मध्य प्रदेश में बढ़ी कांग्रेस की सिरदर्दी

50 - कुछ इस अंदाज में मिले ट्रंप और मोदी

बलवाइयों एवं जिहादियों के प्रति पनपता सहनभूतिक रुख

टाइम्स नॉव पर आयोजित एक परिचर्चा में भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता नूपुर शर्मा द्वारा मोहम्मद पैगंबर पर किये गये  खुलासे को बिना दोनों पक्षों की सुनवाई के सर्वोच्च न्यायालय की एक खंडपीठ के दो न्यायधीश द्वारा की गई टिप्पणी आजकल सुर्खियों में है ।  टीवी चैनल को परिचर्चा का विषय एवं राजनीतिक हलकों को जैसे मुद्दा मिल गया हो । गौर फरमाने की बात यह है कि यह फैसला नहीं महज एक टिप्पणी है । माननीय जज साहेबानों ने उदयपुर में कन्हैया लाल की गर्दन काट कर की गई निर्मम हत्या के बाद हत्यारों द्वारा मिसाल के तौर पर सार्वजनिक किये जाने का ठीकरा नूपुर शर्मा पर फोड़ा कहा कि उदयपुर की घटना उनके बयान का ही अंजाम है  साथ ही दिल्ली पुलिस को नूपुर शर्मा  को  गिरफ्तार ना किये जाने पर लगाई फटकार । हालांकि यह उस टीवी डिबेट में प्रतिभागी द्वारा हिन्दू धर्म के खिलाफ इस्तेमाल किये गये अपशब्दो से उत्तेजित हो मात्र प्रतिक्रिया थी ।

यदि टीवी पर आयोजित परिचर्चा के दौरान व्यक्त की गई प्रतिक्रिया को विवादस्पद एवं दंगा भडकाऊ बयान माना जा सकता है तो असुद्दीन ओबेसी के सार्वजनिक तौर पर किये गये के ऐलान को हमारे देश के न्यायविद किस श्रेणी में लेंगे I यदि मामला शाहीन बाग का हो या फिर उत्तर पूर्वी ऑर दक्षिण पूर्वी दिल्ली में भड़के दंगे क्यों अपना लेते हैं राजनीतिक दल एवं न्याय प्रणाली संप्रदाय विशेष के लिये एक पक्षीय रुख I हाल ही में भड़के करौली एवं जहाँगीर पुरी के दंगे किसी से छिपे नहीं हैं I यदि मामला अखलाक का हो या फिर हाथरस का हमारे चंद बुद्धिजीवी एवं वामपंथी दल इंसाफ के लिये मोर्चा तान लेते हैं I वहीं जब बात करौली या फिर उदयपुर की आती है तो समाज के इस विशेष तबके को साँप सूंघ जाता है I बस भाईचारा एवं शांति बनाये रखने का ज्ञान पेला जाता है I क्यूँ नहीं दोनों ही मामले में अपराधियों को सजा की मांग की जाती है I भले ही हम आजादी की 75 वी वर्षगाँठ को आजादी के अमृत उत्सव के रूप में मना लें  लेकिन आजादी के इतने साल बाद भी दलित एवं सांप्रदाय विशेष के तुष्टीकरण की मानसिक्ता आज भी हमारी राजनीतिक एवं न्यायिक प्रणाली में कहीं न कहीं झलक ही जाती है I

हाल ही में दिये गउदयपुर मामले में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अपने बयान में गर्दन काटकर हत्या के बाद सोशल मीडिया में वीडियो वायरल करना नादानी मानते हैं बचकानी हरकत मानते हैं I वही राहुल गांधी जब बात हाथरस की या जहाँगीर पुरी दंगे के दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की आती है तो वह मामले को दलित या संप्रदाय विशेष  पर सितम का रुख देकर इंसाफ का झंडा लेकर दल बल सहित मैदान में कूद जाते हैं I मौजूदा परिप्रेक्ष में जेहन में एक ही सवाल आखिर कब तक चलेगी वर्ग विशेष के तुष्टीकरण के लिये देश में दोहरी मानसिक प्रणाली ........

आजादी के अमृत महोत्सव की कड़ी के रूप में मनाया जा रहा है 8 वाँ विश्व योग दिवस

देश भर में इस बार के योग दिवस को आजादी के अमृत महोत्सव की कड़ी के रूप में मनाया जा रहा है । स्वयं प्रधान मंत्री नरेंद्र भाई मोदी ने कर्नाटक के मैसूर पैलेस में 15000 लोगों के साथ योगभ्या राष्ट्रपति रामनाथ कोविद भी राष्ट्रपति भवन परिसर में अपने सहयोगियों के योग अभ्यास करते नजर आये ।  75 केंद्रीय मंत्रियों द्वारा 75 महत्वपूर्ण स्थानों पर आयोजित योग शिविर में  भाग लेने के भी समाचार मिले हैं । 

दिल्ली पुलिस मुख्यालय में पुलिस आयुक्त राकेश आस्थाना अपने सहयोगी पुलिस कर्मियों के साथ योग अभ्यास करते दिखाई दिये । बॉर्डर पर तैनात जवानों ने भी विषम वातावरण के बावजूद योगभ्यास किया । और यदि बात विदेश की की जाये तो संयुक्त राष्ट्र संघ सहित 79 देशों ने भारतीय डिप्लोमेटिक मिशन के साथ सहयोग कर अपने अपने देशों में योग अभ्यास किया ।


और यदि बात भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं सांसद सुधांशु त्रिवेदी की मानी जाये तो इस कड़ी में विश्व के 200 देश भारत के साथ इस कड़ी से जुड़े हैं । कुल मिलाकर दुनिया भर में 25 करोड़ से भी अधिक लोगों के विभिन्न स्थानों पर आयोजित योग शिविर में योग अभ्यास किया ।

कुल मिलाकर दुनिया भर में 25 करोड़ से भी अधिक लोगों के विभिन्न स्थानों पर आयोजित योग शिविर में योग अभ्यास किया । भारत को योग का विश्व गुरु माना जाता है । योग के प्रणेता भारत में ऋषि मुनि एवं चीन में बौद्ध भिक्षु हैं । चीन में भी इससे मिलता जुलता शारीरिक क्रिया अभ्यास किया जाता है जिसे फालुन दाफा के रुप में प्रसिद्ध है । इस बार का ठीम था मानवता के लिए योग I

अपने दिग्गज नेताओं को नहीं संभाल पाई कांग्रेस पार्टी

 हाल ही में उदयपुर में नव निरवाण शिवर के आयोजन के बावजूद भी नहीं संभाल पाई कांग्रेस पार्टी  अपने दिग्गज नेताओं को । पहले हार्दिक पटेल फिर सुनील जाखड़ और अब कपिल सिब्बल ने किया कांग्रेस को गुड बाये । तीनों की ही  गिनती कभी पार्टी में कद्दावर नेताओं के रूप में होती थी । गुजरात से कभी पाटीदारों के नेता कहे जाने वाले हार्दिक पटेल की एंट्री पार्टी में हाल ही में हुई थी  उनका इतिहास कुछ ज्यादा पुराना नहीं चंद साल पुराना है लेकिन सुनील जाखड़ की तीन पीढ़ियां पार्टी को समर्पित थीं । उनका स्वयं का इतिहास पार्टी में 30 साल पुराना  है । वह पंजाब कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष  एवं पंजाब विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष की भूमिका निभा चुके हैं ।

और यदि बात पेशे से वकील कपिल सिब्बल की कही जाये तो  उनकी गिनती पार्टी के तेज तरार नेता के रूप में होती थी वह पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं कांग्रेस शासन काल में केंद्रीय मंत्री पद का दायित्व निभा चुके है । वह राम जन्म भूमि मामले में एडवोकेट प्रतिपक्ष एवं अन्य कई राष्ट्रीय मुद्दों के लिए मीडिया की सुर्खियों में  रहे हैं ।  सुनील जाखड़ ने बीजेपी एवं कपिल सिब्बल के समाजवादी पार्टी  ज्वाइन करने के समाचार मिले हैं । हालांकि कपिल सिब्बल का कहना है कि उन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार के रुप में राज्य सभा का नामांकन पत्र दाखिला किया है एवं समाजवादी पार्टी उन्हें समर्थन दे रही है । और यदि बात हार्दिक पटेल की की जाये तो उनका रुख अभी क्लियर नहीं है । आखिर ऐसा क्या हुआ कि सीमित अंतराल मे तीन नेता क्रमवार इस्तीफा देने को मजबूर हुए । यदि इनकी सुनी जाए तो पार्टी खुद ही द्वारा निर्धारित मानदंडों से डगमगा गई है। कहीं ना कहीं अभिव्यक्ति की आजादी का अभाव है । या कहिये शीर्षस्थ नेता उनकी बातों को तवज्जु नहीं देते । एक घुटन सी महसूस होती है। फिरकापरस्ती की संभावना से भी इंकार नहीं किया जा सकता ।

बात अभिव्यक्ति की आजादी की हो या  फिर फिरकापरस्ती की कहीं न कहीं अब जरूरी समय अनुसार पार्टी में ढाँचागत बदलाव...... 

ज्ञान व्यापी मस्जिद के वजु घर में शिवलिंग मिलने से विवाद गहराया

काशी विश्वनाथ परिसर से सटी हुई ज्ञान व्यापी मस्जिद के सर्वेक्षण के बाद वजु  घर परिसर में शिवलिंग के पाये जाने पर हिन्दू पक्ष के सामने मुस्लिम पक्ष भी मैदान में उतरा I जहाँ हिन्दू पक्ष का मानना है कि मस्जिद परिसर में स्थित उजु घर में शिवलिंग है वहीं मुस्लिम पक्ष की दलील है कि वजु घर में जिसे शिवलिंग बताया जा रहा है वह शिवलिंग नहीं फाउंटेन है I इस दलील को लेकर मुस्लिम पक्ष सर्वोच्च न्यायालय में पहुँच गया यह बात ऑर है कि कोर्ट ने इस बाबत नोटिस भी जारी कर दिया है कि वाराणसी के डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट द्वारा वजु घर जहां पर शिवलिंग मिला है सुरक्षा के घेरे में लिया जाना चाहिए  I मस्जिद में नमाज पढ़े जाने पर पाबंदी नहीं है लेकिन वजु की व्यवस्था किसी अन्य स्थान पर की जाए I साथ ही निचली अदालत में इस बाबत कार्यवाही के सुझाव दिये हैं I कोर्ट द्वारा नियुक्त एडवोकेट कमीशनर अजय मिश्रा एवं उनकी टीम द्वारा किए गए सर्वेक्षण से भी शिवलिंग मिलने की पुष्टि होती है यह बात ऑर कि रिपोर्ट दाखिल किये जाने से पूर्व ही रिपोर्ट के तथ्यों को सार्वजनिक करने अभियोग में  एडवोकेट मिश्रा को हटकर उनकी जगह एडवोकेट विशाल सिंह को एडवोकेट कमीशनर नियुक्त किया गया है ऑर एडवोकेट मिश्रा को रिपोर्ट बनाने में उनके सहयोगी के रूप में कार्य करना होगा I मुस्लिम पक्ष की दलील जो भी हो हिन्दू वास्तु शास्त्र के अनुसार नंदी जी का मुह शिवलिंग की तरफ होता है I अब गौर फरमाते है काशी विश्वनाथ परिसरपर तो यहाँ नंदी जी का मुख शिवलिंग की बजाये मस्जिद की तरफ है ऑर दीवार के पीछे वजु घर है जहां पर कथित तौर पर शिवलिंग होने के प्रमाण हैं I

हिंदू पक्ष का कहना है कि 1669 में मुगल शासक औरंगजेब ने यहां काशी विश्वनाथ मंदिर को तोड़कर ज्ञानवापी मस्जिद बनाई थी. हालांकि, मुस्लिम पक्ष का कहना है कि यहां मंदिर नहीं था और शुरुआत से ही मस्जिद बनी थी I यदि इतिहास के पन्नों एवं उपलब्ध जानकारियों को खंगाला जाये तो प्रमाण शिवलिंग के ही मिलते हैं I मुगलकालीन इतिहासकारों के अनुसार काशी के मुख्य शिवालय को ध्वस्त करने के बाद बेशकीमती पत्थर जैसे दिखाई देने वाले शिवलिंग को आक्रांता अपने साथ ले जाना चाहते थे I तमाम कोशिशों के बाद भी वह शिवलिंग को अपने स्थान से नहीं हिला पाये आखिर उन्हे शिवलिंग छोड़ कर जाना पड़ा I बीएचयू के इतिहास विभाग के प्रो. प्रवेश भारद्वाज के अनुसार कुतुबुद्दीन ऐबक, रजिया सुल्तान, सिंकदर लोदी और औरंगजेब ने काशी के देवालयों को जबरदस्त नुकसान पहुंचाया। सभी ने अपने-अपने काल में काशी के प्रधान शिवालय पर भी आक्रमण किए। मंदिर का खजाना लूटा लेकिन लाख कोशिश के बाद भी शिवलिंग को अपने साथ नहीं ले जा सके। अंग्रेज दंडाधिकारी वॉटसन द्वारा 30 दिसम्बर 1810 को ‘वाईस प्रेसिडेंट ऑफ कॉउन्सिल’ में ज्ञानवापी परिसर हिन्दुओं को सौपे जाने की गुजारिश की गई । उनके अनुसार परिसर में हर तरफ हिंदुओं के देवी-देवताओं के मंदिरों का होना एवं मंदिरों के बीच में मस्जिद का होना इस बात का प्रमाण है कि वह स्थान भी हिंदुओं  है। ब्रिटिश शासन ने उनके द्वारा की गई गुजारिश को खारिज कर दिया । तब से ज्ञानवापी परिसर को लेकर दोनों पक्ष अपने-अपने दावों पर अड़े हैं। संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग(बीएचयू) द्वारा किए गए शोध के अनुसार 1809 में ज्ञानवापी को लेकर हिंदू-मुस्लिम के मध्य संघर्ष हुआ  ऑर ज्ञान व्यापी मस्जिद पर हिंदुओं का कब्जा हो गया I 11 अगस्त 1936 को स्टेट कॉउंसिल, अंजुमन इंतजामिया मस्जिद कमेटी तथा सुन्नी सेंट्रल वफ्फ बोर्ड ने याचिका दायर की। 1937 में केस को खारिज हो गया। पांच साल तक चला मामला 1942 में हाईकोर्ट में गया। तब से विवाद चला आ रहा है I

1991 में वाराणसी के पुजारियों के एक समूह ने अदालत में याचिका दायर कर ज्ञान व्यापी मंदिर परिसर में पूजा की अनुमति मांगी थी I उच्च न्यायालय ने 2019 में याचिकाकर्ताओं की सर्वे की मांग जाने पर रोक लगाने का आदेश दिया  I विवाद तब गहराया जब पाँच हिन्दू महिलाओं ने मस्जिद परिसर के भीतर शृंगार गौरी एवं अन्य मूर्तियों की नियमित पूजा करने की मांग की I फिलहाल   चौथे नवरात्रे  के दिन साल में एक बार पूजा करने की इजाजत है I दोनों ही  पक्षों के दावे अदालत में हैं एवं मामला कोर्ट में विचारधीन है ।

आखिर क्यूँ मंजूर है इन्हे फिर से वही बंदिशें.....

कर्नाटक के एक स्कूल में सदियों से चले आ  रहे ड्रेस कोड की अवमना कर समुदाय विशेष की  एक छात्रा के  हिजाब पहनकर आने  एवं अन्य छात्राओं द्वारा  अनुसरण  से उठी चिंगारी की लपटें ऐन पाँच राज्यों  में  विधानसभा चुनाव से पहले दक्षिण से उत्तर भारत तक विशेषकर उत्तर प्रदेश में  स्पष्ट दिखाई दी I छात्राओं के समर्थन में चंद  राजनीतिक दलों द्वारा उलेमाओं को  आगे  कर विभिन्न स्थानों से प्रदर्शन एवं  जमकर नारेबाजी  के उन दिनों के समाचार भी मिले हैं  I

मामला स्थाननीय हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट में पहुँचा I मामला  फिलहाल ठंडे बस्ते में है I यह बात और है कि उत्तरप्रदेश में हाल ही में हुए विधानसभा चुनावों में इसका असर न के बराबर रहा I स्वयं  इन दलों के कुछ नेताओं ने दबी जुबान कबूला है गलत समय पर हुई इस हल्लेबाजी से प्लेटफॉर्म  दूसरों को मिला I मसाला हिजाब का नहीं स्कूलों में ड्रेस कोड की अवहेलना कर हिजाब पहन कर  आने का है I

हिजाब पहनकर  स्कूल परिसर में प्रवेश न  मिलने पर  जिद में चंद छात्राओं का हिजाब पहनकर अल्लाह हू अकबर की नारेबाजी लगाकर परिसर के बाहर चक्कर लगाना  पिछले दिनों मीडिया में वायरल हुआ  I जिसे  बाद  मे  चंद फिरकपरस्तों द्वारा अपनी ही विचारधारा वाले चंद  उलेमाओं के साथ मिलकर राजनीतिक तुष्टीकरण के लिए हवा दी  गई I स्वयं  मुस्लिम युवतियों  का  कहना है कि वह केवल खास मौके पर ही आवश्यकता अनुसार हिजाब ऑर बुर्के का इस्तेमाल करती हैं I इन सबके बीच विचारणीय है तो बस सदियों से चली आ रही बुर्के ऑर हिजाब की परंपरा  को पीछे छोड़ आई खुले  माहौल में जीने वाली इन  युवतियों को मंजूर  वही बंदिश.......

पाँच में से चार राज्यों में लहराया कमल का परचम

जहाँ भारतीय जनता पार्टी एवं आम आदमी पार्टी के दिल्ली स्थित मुख्यालयों में दिखाई दिया जशन माहौल वही कॉंग्रेस पार्टी के मुख्यालय में छाई रही फिर वही खामोशी I चुनावी समीकरणों ने बाजी पलटी 4 राज्यों में भारतीय जनता पार्टी एवं एक राज्य में आम आदमी पार्टी की सरकार बनना तय I इस बार के चुनाव परिणामों की खासियत अपने राज्यों में दिग्गज कहे जाने वाले कुछ कद्दावर नेता हुए धराशाही I

उत्तर प्रदेश में एक बार फिर योगी आदित्यनाथ बनेंगे मुख्यमंत्री ऑर पंजाब में भगवंत मान का मुख्यमंत्री बनना तय I उत्तराखंड,गोवा एवं मणिपुर के चुनाव परिणाम भी भारतीय जनता पार्टी के हक में गये हैं I इन पाँच राज्यों के चुनाव में यदि किसी को झटका लगा है तो वो है देश की प्राचीनतम पार्टी कॉंग्रेस I हालांकि काँग्रेस के वरिष्ठ नेताओं यह कह के दिल को तसल्ली दे रहे है कि कम सीटें ही सही उत्तर प्रदेश में एंट्री तो मिली, कहीं न कहीं अब पार्टी के लिए जरूरी है चुनाव परिणाम को लेकर आत्म मंथन I

वैसे उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की हालत भी नाजुक रही लेकिन यदि पिछले चुनावों से तुलना की जाए तो नाजुक स्थिति में भी पार्टी में कहीं न कहीं मजबूती साफ दिखाई देती है I वैसे यदि पंजाब में देखा जाए कम सीटें ही सही भारतीय जनता पार्टी की एंट्री पंजाब में आखिर हो ही गई I प्रधान मंत्री नरेंद्र भाई मोदी ने विधानसभा चुनाव 2022  में भारतीय जनता पार्टी को मिले अभूतपूर्व जनसमर्थन के लिए जनता का आभार एवं अभिनंदन करते हुए इसे लोकतंत्र की जीत बताया ......

पेट्रोलियम, फर्टिलाइजर एवं खाद्य सामाग्री पर मिलने वाली राहत में लगभग 27 फीसदी की कटौती

केंद्रीय वित्त मंत्री सुश्री निर्मला सीतारामन द्वारा सदन के पटल पर रखे गये बजट 2022-2023 पर देश के राजनीतिक हलक़ों में मिली जुली प्रतिक्रियायेँ हैं I जहाँ सियासतदानों स्वयं वित्त मंत्री का मानना है कि अगले 25 साल कि बुनियाद रखने वाले इस बजट को समाज के सभी वर्गो की आशाओं को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है I I प्रधान मंत्री नरेंद्र भाई मोदी राय अनुसार कोरोना संक्रामण के कारण आर्थिक मंदी के मध्य-नजर करदाताओं पर किसी प्रकार का अतिरिक्त बोझ नहीं डाला गया I याने कि आयकर की दरों में किसी प्रकार का बदलाव नहीं किया गया है I वहीं पूर्व वित्त मंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदम्बरम ने बजट को पूंजीवादी बताते हुये कहा कि  कोरोना के कारण छाही आर्थिक मंदी के कारण करोड़ों की नौकरी चली गई I लगभग  85 प्रतिशत  घरों की आय टूट गई है I किसान एवं बच्चे जैसे सात आठ पहलू हैं जिनको बजट में नजर अंदाज किया गया है I लोक कल्याण को ताक पर रखकर पेट्रोलियम, फर्टिलाइजर एवं खाद्य सामाग्री पर मिलने वाली राहत में लगभग 27 फीसदी कटौती की गई है I

 

2021-22 के बजट में पेट्रोलियम पर 6517 फर्टिलाइजर पर 140000 करोड़ एवं खाद्य सामाग्री पर 286219 करोड़ रूपये की राहत राशि का प्रावधान था जबकि नए याने कि 2022-2023 के बजट  में घटकर यह राहत पेट्रोलियम पर 5813 करोड़, फर्टिलाइजर पर 105000 करोड़ एवं खाद्य सामाग्री 206481 करोड़ रूपये रह गई है I अब गौर फरमाते हैं इस बजट के कुछ अन्य पहलुओं पर I अब चमड़े एवं उससे बनी वस्तुयें, मोबाइल ऐसेसरी एवं कृषि पदार्थो के दाम कम होंगे, हीरे पर कस्टम ड्यूटि 5 फीसदी घटी,क्रिप्टो करेंसी से होने वाली आय पर 30 फीसदी कर लगेगा एवं कैपिटल गुड्ज पर लगने वाली कस्टम ड्यूटि में 7.5 फिसदी की रियायत दी गई है I अब बैंक बिना ईसीजीएलएस के  मदद कर सकेगा I डिफेंस के लिए 25 फीसदी  बजट का हिस्सा एवं 5.5 लाख करोड़ रूपये का इंफ्रास्ट्रक्चर का प्रावधान है I


वित्त मंत्री द्वारा किए गए खुलासे के अनुसार एयर इंडिया की विनिवेशिकरण प्रक्रिया पूरी हो चुकी है  एवं प्रक्रियानुसार जीवन बीमा निगम की विनिवेशिकरण प्रक्रिया वित्तीय वर्ष में शुरू हो जाएगी I  सरकार जीवन बीमा निगम का आईपीओ निकालने की तैयारी में है I पेट्रोलियम, फर्टिलाइजर एवं खाद्य सामाग्री पर मिलने वाली राहत में की गई कटौती के कारण नहीं होगा आसान सरकार के लिए महंगाई पर नियंत्रण रखना .....

 

जे&के पुलिस के सहायक उप निरीक्षक बाबूराम शर्मा मरणोपरांत अशोक चक्र से संमानित

कोरोना की तीसरी लहर ओमिक्रोन संक्रमण  के दिशानिर्देशों के मध्यनजर पूर्ण ऐतिहात के साथ धूम-धाम से मनाया जा रहा है देश भर 73 गणतंत्र दिवस I विशिष्ठ एवं अति विशिष्ठ ने राजपथ पर एवं आम नागरिक ने टी.वी. पर और किसी ने छत पर खड़े होकर आसमान में तिरंगाा बनाते विमानों को देखकर अपनी हसरत पूरी की ।

जे&के पुलिस के एएसआई बाबू राम को श्रीनगर में आतंकवाद विरोधी अभियान के दौरान "वीरता और अनुकरणीय साहस का प्रदर्शन" करने के लिए मरणोपरांत अशोक चक्र से सम्मानित किया गया। उनकी पत्नी रीना रानी और बेटे माणिक ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से पुरस्कार ग्रहण किया।

इस बार गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिल्ली पुलिस के 17 पुलिस अधिकारी एवं कर्मी हुए पुलिस मेडल से संमानित I इस बार का आकर्षण रही  सीपीडब्ल्यूडी के हॉर्टिकल्चर विभाग द्वारा नेताजी सुभाष चंद्र बोस के 125 वें जन्मदिवस पर समर्पित फूलों से बनाई गई झांकी I इस बार भी परेड की कमांड थी लेफ्टिनेंट जनरल विजय कुमार मिश्रा के हाथ । -30 डिग्री तापमान में 14000 फिट ऊंचाई पर आईटीबीपी के जवानों द्वारा गणतंत्र दिवस मनाये जाने के समाचार भी मिले हैं


धनुष टंकार परिवार की सभी देशवासियों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें । पेश है  एक झलक......

आखिर कौन होंगे सत्ता के इस महाभोज के सिकंदर

कोविड संक्रमण की तीसरी लहर के लिये चुनाव आयोग के दिशानिर्देश आने से पहले ही राजनीतिक दलों ने पूरा कर लिया था अपनी-अपनी रैलियों का कोटा I मीडिया एवं सोशल मीडिया के माध्यम से प्रसारित हो रही है  पाँच राज्यों में होने वाले चुनावों में पार्टियों  की रणनीति I याने कि मीडिया की कसौटी पर खरे उतरने वालों की ही जीत संभावित है I वैसे इस बार मतदाताओं से व्यक्तिगत संपर्क पर भी जोर रहेगा I

पंजाब में 117, उत्तर प्रदेश में 403 , उत्तराखंड में 70 , मणिपुर में 60  एवं गोवा में 40 विधान सभा सीटों के लिए  आगामी फरवरी में चुनाव संभावित हैं I उम्मीदवारों की सूची जारी किये जाने की प्रक्रिया शुरू होते ही नेताओं हड़कंप मचा हुआ है I फिरकापरस्ती  के इस दौर में नेताओं का इधर से उधर गुलाटी मारना लाजमी है I कुछ बीजेपी तो कुछ आम आदमी पार्टी तो कुछ समाजवादी पार्टी ऑर चंद एक कांग्रेस में I

पांचों राज्यों के राजनीतिक समीकरण उलझे हुए से जान पड़ते हैं I तमाम अटकलों एवं राजनीतिक कवायदों के बावजूद भी नहीं होगा आसान बीजेपी के लिये पंजाब में किसानों आंदोलन की आड़ में बनाये गये चक्रव्यूह को भेद पाना I आम आदमी पार्टी के मुख्य संयोजक अरविंद केजरीवाल द्वारा की गई वायदों की झड़ी का खुलासा भी वक्त आने पर हो ही जायेगा I

उत्तर प्रदेश में तीन मंत्री  एवं बारह बीजेपी बागी विधायकों का कितना फायदा समाजवादी पार्टी के टीपू को मिल पायेगा यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा I आयोध्या की बिसात पर बीजेपी की व्यूहरचना के सामने क्या टिक पायेगी कांग्रेस की इमोशनल राजनीति I यहाँ भी पैर पसारने की फिराक में हैं केजरीवाल I यहाँ योगी एवं टीपू के बीच मल्ल युद्ध है I

ऑर यदि बात उत्तराखंड की हो तो यहाँ काँग्रेस एवं बीजेपी के बीच तेजी से पाँव पसारने की फिराक में हैं केजरीवाल I कहीं न कहीं भारी पड़ सकता है बीजेपी पर पाँच साल में तीन मुख्यमंत्रियों का बदला जाना I यहाँ की  विकास एवं विकास के बीच है मल्ल युद्ध I आखिर खेला तो यहाँ पर भी खेल रही है कांग्रेस I

 

सीमावर्ती राज्य होने के कारण चुनाव के दौरान मणिपुर में विशेष अहतियात बरतने की जरूरत है I चुनाव की तारीख के साथ यहाँ पर हिंसक वारदातों का सिलसिला शुरू हो गया I बीजेपी के कार्यकर्ता समेत दो की हत्या एवं यहाँ की राजधानी स्थित दो कांग्रेसी नेताओं के घर बम फेके जाने के  समाचार मिले हैं I यहाँ चुनाव दो चरणों में संपन्न होने हैं 27 फरवरी एवं 3 मार्च I यहाँ के चुनावी तेवर कुछ ज्यादा ही भयंकर हैं I

पूर्व केंदीय रक्षा मंत्री मनोहर पारिककर की कर्मस्थली गोवा में कहीं न कहीं भारी पड़ सकता है बीजेपी पर एक आपराधिक छवि वाले व्यक्तित्व को टिकट दिया जाना I स्वयं पूर्व मंत्री के पुत्र ने उत्पल पारिककर ने साधा है निशाना अगर पार्टी पणजी निर्वाचन क्षेत्र के मौजूदा विधायक अतानासियो मोनसेरेट को अपना टिकट देती है तो वह चुप नहीं बैठेंगे। यहाँ कांग्रेस तृणमूल कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही है I

तमाम कवायदों एवं मौजूदा समीकरण के बीच सत्ता के इस महाभोज में कमल,हाथ एवं साइकिल के भविष्य का खुलासा तो समय आने पर हो ही जायेगा I फिलहाल कहीं न कहीं जरूरी है सुलझी हुई सोंच के साथ मतदान.....

ठेके आन फिटनेस सेंटर ऑफ छा गए केजरीवाल जी तुस्सी

नहीं लगाई गई दिल्ली में   ग्रेडेड एक्शन प्लान के लेवल वन के तहत पाबंदियाँ  योजनाबद्ध तरीके से I जल्दबाजी में लिए गए फैसले से आज  दिल्ली के 55000 जिम से जुड़े हुए लगभग तीन लाख  लोगों सहित छोटे मोटे व्यवसाय से जुड़े व्यापारियों एवं मुलाजिमों की रोजी रोटी खतरे में है I रफ्तार पकड़ती कोविड एवं ओमिक्रोन की बढ़ती संक्रमण की दर  के एहतियात के तौर पर पाबंदियों का लगाया जाना  लाजमी है ऑर इन सबके बीच कहीं न कहीं जरूरी है प्रभावित लोगों के लिए रिहेब्लीटेशन एक्शन प्लान के साथ सुचारु व्यवस्था I

50 फीसदी क्षमता पर  चलाये जाने से मेट्रो एवं बसों के संचालन के साथ कहीं न कहीं न कहीं विचारणीय है बारी के इंतेजार में  मेट्रो स्टेशन एवं बस स्टॉप पर लगा जमवाड़ा I सामाजिक एवं सांस्कृतिक गतिविधियों पर रोक के साथ कहीं न कहीं चुनाव प्रचार एवं रैलियों पर अंकुश I दिल्ली प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष श्री आदेश गुप्ता ने दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार पर दागा सवाल जब 50 फीसदी की क्षमता पर दिल्ली में नियमित रूप से खोले जा सकते हैं दिल्ली में शराब के ठेके तो क्यूँ नहीं चलाये  जा सकते 50 फीसदी क्षमता पर दिल्ली में फिटनेस सेंटर एवं जिम  जो कि शराब की जगह फिटनेस के लिए  कहीं ज्यादा जरूरी है I

 पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री शहजाद पूनावाला एवं जिम एवं फिटनेस सेंटर एशोसिएशन के अध्यक्ष श्री भूपेंद्र ने भी कसा तंज ठेके आन फिटनेस सेंटर ऑफ I छा गए तुस्सी केजरीवाल जी I काम धंधा ठप्प रहने से  प्रदेश अध्यक्ष ने मांग की है कि कम से कम दो महीने तक बुनियादी सेवाओं के लिए  सरकार द्वारा वसूले जा रहे फिक्स्ड चारजेज पर छूट मिलनी चाहिए I दिल्ली में कोविड संक्रमण का आंकड़ा 750  पार कर गया है I ओमिक्रोन के 263 मामले दर्ज हुए हैं जो कि देश में सबसे ज्यादा हैं I विपक्ष के नेताओं ने दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल से ताकीद की है कि संक्रामण के इस दौर में  पॉलिटिकल टूरिज्म छोड़ दिल्ली की ओर  ध्यान दें I सुना है कि वो आज से नव वर्ष तक पंजाब के दौरे पर  हैं ऑर  वहाँ रहकर  चुनावी रैलियों को संबोधित करेंगे I

मुख्य सुरक्षा अधिकारी हुए पंचतत्वों विलीन

देश के मुख्य सुरक्षा अधिकारी हुए पंचतत्वों में विलीन I जी हाँ हम बात कर रहे हैं जनरल बिपिन रावत की I गत 8 तारीख को वह ऑर उनकी धर्मपत्नी  सुश्री मधुलिका रावत अन्य सेन्य अधिकारियों  के साथ वायुसेना के विमान से M-i17V5 में सवार होकर  सुलुर ( कोयंबटूर) से  डिफेंस स्टाफ कॉलेज वेलिंगटन  जा रहे थे I  किन्नौर के निकट नीलगिरी के पहाड़ी छेत्र में आग लगने से विमान में क्षतिग्रस्त हो गया I क्षतिग्रस्त विमान में सवार जनरल रावत सहित सभी 13 यात्री की मौत हुई I

62 वर्षीय 1978 बेच के सेन्य अधिकारी जनरल रावत ने भारतीय सेना के उच्च रक्षा संगठन में दूरगामी सुधारों की शुरुआत की। उन्हे भारत के संयुक्त थिएटर कमांड की नींव बनाने और सैन्य उपकरणों के बढ़ते स्वदेशीकरण को प्रोत्साहन देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए हमेशा याद किया जाएगा I उन्होने 30 दिसंबर 2019 को  भारत के प्रथम मुख्य सुरक्षा अधिकारी (सीओडी) पद का कार्यभार संभाला  था I इस पद के सृजन से पहले सेना की तीनों इकाइयाँ आर्मी नेवी एवं एयरफोर्स  अपने अपने छेत्र में स्वातंत्र इकाई के रूप में कार्य करती थी I उनके सेन्य केरियर की शुरुवात ग्यारहवीं गोरखा राइफल की पाँचवीं बटालियन में बतौर कमिशंड अधिकारी के रूप में हुई थी I उनका जन्म 16 मार्च सन 1958 में  उत्तराखंड के पौड़ी शहर में हुआ था I

चाहें मामला चीन का हो या पाकिस्तान का या फिर जम्मू कश्मीर की आंतरिक सुरक्षा का उनके नेतृत्व में भारतीय सेना हर चुनौती से निपटने में सक्षम रही है I आंतरिक मामलों एवं पड़ोसी मुल्कों से सीमांत विवादों से निपटने के अलावा उन्होने यूएन मिशन के तहत MONUSCO (कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में एक अध्याय VII मिशन में एक बहुराष्ट्रीय ब्रिगेड) की कमान संभाली। परिचालन अवधि चार महीने तक चली। उन्हें 16 मई 2009 को लंदन के विल्टन पार्क में एक विशेष सम्मेलन में संयुक्त राष्ट्र के सभी मिशनों के महासचिव और फोर्स कमांडरों के विशेष प्रतिनिधियों के लिए शांति प्रवर्तन का संशोधित चार्टर प्रस्तुत करने का भी काम सौंपा गया । उन्हे दो बार फोर्स कमांडर्स कमेंडेशन से सम्मानित किया गया । 43 साल के सेन्य केरियर के दौरान अद्भुद प्रदर्शन के लिए उन्हे परम विशिष्ट सेवा मेडल,युद्ध सेवा मेडल एवं अति विशिष्ट सेवा मेडल आदि से नवाजा गया I

विमान दुर्घटना में मारे गए अन्य सेन्य अधिकारी हैं ब्रिगेडियर लिद्दर ,लेफ्टिनेंट कर्नल हरजिंदर सिंह,विंग कमांडर पी एस चौहान,स्क्वार्डन लीडर के सिंह, जूनियर वारेंट ऑफिसर दास,जूनियर वारेंट ऑफिसर प्रदीप ए, हवलदार सतपाल, नायक जितेन्द्र कुमार , लांस नायक विवेक कुमार एवं लांस नायक साई तेजा I सभी जांबाजों भावभीनी श्रद्धांजलि के साथ हुए अलविदा .....

दिल्ली में यमुना का पानी का बीओडी लेवेल 50 के पार

दिल्ली में यमुना घाटों पर लगाये गये छट पुजा पर प्रतिबंध के बावजूद मनाया जा रहा है छट पर्व  बड़ी धूम-धाम से I आईटीओ एवं सोनिया विहार के समीप यमुना घाटों पर भारतीय जनता पार्टी के स्थाननीय सांसदों के दबाव के बाद ये घाट छट  पूजा के लिए खोले गये लेकिन पूजा जमुना के किनारे बनाए गये स्वच्छ पानी के तालाब में  हो रही है I  वैसे भी यमुना का पानी दूषित है ऑर फैनिल झाग का देना आम है I 

भारतीय जनता पार्टी के सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने आईटीओ के समीप यमुना घाट पर एवं सांसद मनोज तिवारी एवं प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता सोनिया विहार समीप यमुना घाट पर श्रद्धालुओं के साथ नजर आए I आम आदमी पार्टी के विधायक राघव चड्ढा एवं मंत्री गोपाल राय के स्थाननीय छट पूजा में शामिल होने के भी समाचार मिले हैं I

गौर फरमाने की बात यह है कि यमुना का पानी का बीओडी लेवेल 50 के पार है I पीना तो दूर संपर्क मे आने से चर्म की बीमारियों की संभावना से भी इंकार नहीं किया जा सकता I सांसद मनोज तिवारी के अनुसार पल्ला जहाँ से दिल्ली के लिए पानी खुलता है में  बीओडी लेवेल 2 है ऑर यूपी में  पहुँचने तक यह 50 हो जाता है I कारण दिल्ली के 38 नालों का पानी बिना शोधन के यमुना से जुड़ जाता है I यमुना ने दूषित तो होना ही हुआ I

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता के अनुसार 7 साल पहले केंद्र सरकार द्वारा दिल्ली सरकार को 13 संशोधन प्लांट खोले जाने के लिए 2491 करोड़ रुपया का पैकेज जारी किये जाने के बावजूद भी आज भी दिल्ली में यमुना के पानी का विषेला होना मौजूदा सरकार  पर सवालिया निशान है I मामला दिल्ली वासियों के स्वास्थ्य का होने से सरकार का सज्ञान जरूरी है ..........

फूक के कदम रखिए वरना हो सकता है आपका भी अगला नंबर

यदि आप सोशल मीडिया एप्लिकेशन या किसी चैट प्लेटफार्म इस्तेमाल करते  हैं तो  फूक के कदम रखिए  वरना अगला नंबर आपका भी हो सकता है I ओपरेशन वर्चस्व के तहत द्वारका जिला दिल्ली पुलिस द्वारा गठित टीम ने हाल ही में  इलाके में सक्रिय एक ऐसे गेंग का भांडा फोड़ा जो बहाने से अपने ठिकाने पे लेजाकर पेय पदार्थ में नशीला पदार्थ देकर बेहोश कर फर्जी सेक्स का ड्रामा रच बलात्कार के नाम पर झांसे में आए व्यक्ति से मोटी फिरौती वसूलने के कारोबार में लिप्त था I गिरोह की सरगना सोनू सूरी एवं उसके चार  सहयोगी रेवती देवी, वैभव, शीतल अरोड़ा एवं हरबिन्डर सिंह फिलहाल हिरासत में हैं एवं तहकीकत जारी है I इन्हे इलाके के ही एक लकड़ी व्यापारी द्वारा दाबरी थाने में दर्ज एक शिकायत के बिना पर मामला प्रकाश में आया I गिरोह की सरगना सोनू सूरी बलात्कार के मामले में दोषी थी एवं 2003 में जेल में सजा काट चुकी है I

आरंभिक जांच से पता चला है कि ये लोग टिंडर सोशल मीडिया एप में शौकीन मिजाज की तलाश करते थे I फिर बहाने से उसे नियत स्थान पर लेजाया जाता था जहां पर उसे पानी या पेय के नाम पर नशीला पदार्थ दिया जाता था I जब वह बिहोश हो जाता था तो उसके साथ सेक्स का ड्रामा रचा जाता था I जब वह होश में आने पर उसके सामने गिरोह के सदस्य बलात्कार की पीड़िता,गवाह, पुलिसवाला एवं जज बन उसपर दबाव डाल फिरोती की मोटी रकम वसूलते थे यहाँ तक की उसके पास की नकदी एवं अन्य समान लूट लेते  थे I इलाके के उपायुक्त श्री शंकर चौधरी के अनुसार इनके कब्जे से बरामद डायरी से अनुमान है कि ये अब तक 30 लोगों को अपना शिकार बना चुके है I सोशल मीडिया एप्लिकेशन के इस्तेमाल में जरा सी सावधानी आपको आने वाले खतरे से बचा सकती है I

महंत नरेंद्र गिरी की मौत पर लगे सवालिया निशान

12 पन्नों के सोसाइड नोट ने लगाया अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी की मौत पर सवालिया निशान । जानकारों के अनुसार महंत को पढ़ना-लिखना नहीं आता था । दूसरों से खत लिखवाकर बमुश्किल हस्ताक्षर किया करते थे । आखिर ऐसे कौन से राज हैं जिनके खुलने के डर से दबाव में आकर महंत ने किये होंगे 12 पन्ने के सोसाइड नोट पर हस्ताक्षर ? कौन है पर्दे के पीछे का खलनायक ? क्या चेलों की बेवफाई के चलते  हुई महंत की मौत ? जेहन में ऐसे कई बहुत से सवाल  हैं जिनका खुलासा होना अभी बाकी है ।


प्रयागराज के अल्लापुरा स्थित श्रीमठ बाघंबरी गद्दी के जिस कमरे मे पंखे पर लटककर महंत ने कठित आत्महत्या की थी, उसका पंखा चल रहा था एवं जमीन पर रखे महंत के पार्थिव शरीर के साथ उनके उनके शिष्य बलबीर गिरी खड़े थे । शव को पुलिस के आने से पहले क्यों उतारा गया ? जहाँ सोसाइड नोट में महंत ने बालवीर को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया है वहीं प्रमुख शिष्य आनंद गिरी जो कि उनके कथित उत्तराधिकारी भी हैं एवं अन्य सहयोगियों पर आत्महत्या करने के लिये मजबूर करने का आरोप लगाया गया है ।

घटनाक्रम के दौरान आनंद गिरी हरिद्वार में थे । उन्हें हरिद्वार से प्रयागराज लाया गया है और फिलहाल हिरासत में हैं । उनके खिलाफ जार्ज टाउन थाने मे भारतीय दंड विधान की धारा 306 के तहत मामला दर्ज  है । महंत नरेंद्र गिरी अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष के साथ निरंजनी अखाड़े के सचिव भी थे । ममले पर तहकीकात जारी है पुलिस ने कुछएक करीबी लोगों को हिरासत में लिया है एवं जवाब-तलब जारी है ।

 संदेहजनक परिस्थितियों में हुई महंत नरेंद्र गिरी की मौत के मध्य-नजर दिल यह सोचने को मजबूर हो जाता है कि मोह-माया को त्यागकर सन्यासी बने साधू-संत भी नहीं हैं राजनीति से अछूते.....  
 

अकाली दल बादल ने लगाई हैट्रिक

एक बार फिर दिल्ली सिख गुरूद्वारा कमेटी के चुनाव में एक बार फिर तीसरी बार  अकाली दल बादल ने लगाई हेडट्रिक ।  यह बात और है कि वर्तमान अध्यक्ष सरदार मनजिंदर सिंह सरना खुद अपना चुनाव हरविंदर सिंह सरना से 500 वोटों से हार गये  हैं ।


दिल्ली सिख गुरूद्वारा प्रबंधन कमेटी दिल्ली की सबसे बड़ी धार्मिक प्रबंधन कमेटी है जिसके जिम्मे दिल्ली के गुरूद्वारों के साथ प्रबंधन के आधीन चल रहे शैक्षणिक संस्थाओं एवं अस्पतालों की व्यवस्था है । यह संस्था सामाजिक गतिविधियों में भी सक्रिय है एवं आपदा प्रबंधन में सियासतदानों की मदद करती है ।


इस बार की मतदान दर 37 फीसदी रही जो पिछली दफा से 8.61 फीसदी कम रही । 3.42 लाख सिख मतदाताओं में से केवल 1.27 लाख ने मतदान किया । सरदार मनजिंदर सिंह सरना एवं शिरोमणि अकाली दल बादल के प्रधान सरदार सुखबीर सिंह बादल ने इस जीत को संगत की जीत बताया है । सिरसा को दिल्ली गुरूद्वारा प्रबंधन कमेटी ने अपना सदस्य मनोनीत किया है । सिरसा एक बार फिर से बने प्रबंधन के अध्यक्ष ।

सबके साथ,सबके विकास,सबके विश्वास एवं सबके प्रयास से ही लक्ष्य प्राप्ति संभव

लाल किले पर घ्वजारोहन के बाद अपनी सरकार की उपलब्धियाँ गिनवाते हुए प्रधान-मंत्री नरेंद्र भाई मोदी ने लक्ष्य प्राप्ति के लिये  दिया सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास एवं सबके प्रयास पर बल  ।

इस बार दिल्ली पुलिस के 6 अधिकारी एवं कर्मी वीरता के लिये हुए राष्ट्रपति पुलिस पदक से संमानित । इनके  नाम हैं  पुलिस उपायुक्त अमित शर्मा, सहायक पुलिस आयुक्त अनुज कुमार,शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल, कांस्टेबल प्रदीप शर्मा, कांस्टेबल मोहित कुमार एवं कांस्टेबल नवीन । इनके अतिरिक्त 16 पुलिस कर्मी एवं अधिकारियों को विशिष्ठ एवं सहराहनीय कार्यो के लिये पुलिस पदक से संमानित किया गया ।

माकूल सुरक्षा इंतेजामात एवं कोविड दिशा निर्देशें का अनुपालन करते हुए देश भर में धूम-धाम से मनाया जा रहा है 75 वाँ जश्न-ए-आजादी । सियासतदानों ने लाल किले पर तो आम नागरिकों  ने घर ही टेलीविजन में सीधा प्रसारण देखकर एवं बच्चों एवं युवाओं ने छत पर पतंग उड़ाकर मना रहे हैं 75 वाँ जश्न-ए-आजादी ......
 

जबरन कराया गया बच्ची का अंतिम संस्कार

दिल्ली में 9 साल की बच्ची के सनसनीखेज हत्याकांड पर सियासतदान हैं खामोश । राजनीतिक हलकों में मची हलचल । राजधानी में महिलाओं और बालिकाओं के साथ बढ़ते अपराधिक मामलों को लेकर दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने साधा दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार एवं मुख्य-मंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना । दिल्ली छावनी के ओल्ड नांगल गांव के एक दलित परिवार की  रविवार की शाम नांगल शमशान घाट में पानी लेने गई 9 वर्षीय लड़की  साल की लड़की जिसको हम गुड़िया के नाम से जान रहे हैं की वहीं के कुछ लोगों द्वारा बलात्कार के बाद बिना माता पिता की सहमति से जबरन अंतिम संस्कार  कर दिया गया ।

परिजनों की शिकायत पर 4-5 घंटे बाद पुलिस घटना स्थल पर पहुँचती है और यह सार्वजनिक किया जाता है कि लड़की की मौत कंरट लगने से हुई है । मामला एस.सी/एसटी एक्ट के तहत चारों अपराधियों के खिलाफ आईपीसी की 304, 342 और 201 के तहत दर्ज होता है । राजनीतिक एवं सामाजिक संगठनों के दबाव के बाद अपराधियों के खिलाफ  बलात्कार  एवं हत्या का मामला  दर्ज  होता है । पूर्व विधायक श्री जय किशन और वीर सिंह धींगान  केअनुसार घटना के कुछ घंटों बाद उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं और दलित लोगों ने वहां पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के लिए पहुॅच गए और घंटों पुलिस थाने में पीड़ित परिवार को बैठाने के बाद थाने से बाहर लाए और पुलिस पर दवाब डालकर अपराधियों के खिलाफ मामला दर्ज  एवंअपराधियों को पकड़ा  अधजले शरीर को पोस्टमार्टम और फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा गया ।

धरने प्रदर्शन जारी हैं एवं मामले की फास्ट ट्रेक कोर्ट से जाँच एवं पीड़ित परिवार की सुरक्षा की माँग की जा रही है । यदि आंकड़ों पर गौर फरमाया जाये  तो 2014 से 15 जून 2021 तक दिल्ली में 15,501  महिलाओं के साथ बलात्कार हुए मामले दर्ज हुए हैं । कहीं ना कहीं आज भी असुरक्षित है राजधानी दिल्ली......

 

सिने जगत के ट्रेज्डी किंग को देश का आखरी सलाम

6 दशकों तक अभिनय के दम पर दर्शकों के दिल पर राज करने वाला फिल्मी सितारा हुआ दुनिया से अलविदा । जी हाँ हम चर्चा कर रहे हैं मोहम्मद युसुफ खान की जो बालीवुड में दलीप कुमार के नाम से जाने जाते हैं ।  7 जुलाई को हिंदुजा अस्पताल में उन्होंने अंतिम साँस ली । 98 साल के दलीप कुमार एक अरसे से बिमार चल रहे थे ।

पेशावर में जन्में दलीप कुमार के फिल्मी जीवन की शुरूआत 1944 में ज्वार-भाटा फिल्म से हुई । उन्होंने 60 से भी अधिक फिल्मों में काम किया है । उनकी कुछ चर्चित फिल्में हैं अंदाज,मुगुल -ए- आजम,देवदास,क्रांति,कर्मा, शक्ति एवं सौदागर ।

अभिनय के क्षेत्र में नायब भूमिका निभाने के लिये उन्हें फिल्म फेयर अवार्ड, दादा साहिब फालके अवार्ड एवं भारत का सर्वोच्च अवार्ड पदमश्री से नवाजा गया । सिने जगत में वह ट्रेजडी किंग एवं फस्ट खान के रूप में मशहूर थे ।

वह  2000 से 2006 तक कांग्रेस पार्टी द्वारा मनोनीत राज्य सभा के सदस्य रहे । एमपी लेड फंड से बांद्रा बेंच स्टेंड एवं बांद्रा फोर्ट के सोंदर्यकरण में महत्वपूर्ण भुमिका रही । सिने जगत के ट्रेजडी किंग को देश का अंतिम सलाम । यादों के मंजूषा से पेश है एक झलक....

कोरोना से जंग मे योग ही एक आशा की किरण

कोरोना संक्रमण के लिये निर्धारित दिशा-निर्देशों का अनुपालन करते हुए भारत सहित दुनिया के लगभग सभी देशों  में मनाया गया सातवाँ अंतरराष्ट्रीय योग दिवस । राष्ट्रपति भवन परिसर  में राष्ट्रपति रामनाथ कोविदयोगाभ्यास करते नजर आये तो उप-राष्ट्रपति के वेंकैया नाइडू अपने आवास परिसर में अनुलोम-विलोम करते ।


बाघा बार्डर स्थित बीएसएफ एवं आईटीबीपी के जवानों द्वारा योग दिवस मनायं जाने के समाचार मिले हैं । दिल्ली पुलिस के आयुक्त श्री एस.एन.श्रीवास्तव भी अपने आवास परिसर में  धर्म-पत्नि के साथ योग-आसन करते दिखे ।


प्रधान-मंत्री नरेंद्र भाई मोदी ने भी अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर अपने राष्ट्र के नाम संदेश में कोरोना महामारी के संक्रमण के दौर में योग-आसान को आशा की कड़ी बताया । उन्होंने विश्व स्वस्थ्य संघठन के सहयोग से एक मोबाइल ऐपलिकेशन भी लाँच की ।


स्वस्थ्य जीवन एवं मानसिक संतुलन को बनाये रखने के लिये महर्षि पतांजली के द्वारा बताये गये योग के आठ सूत्रों -यम,नियम,आसन,प्राणायाम,प्रत्याहार,धारण,ध्यान एवं समाधि  का अनुपालन करना जरूरी है । फिट रहेगा तभी तो जीतेगा इंडिया महामारी से......

संक्रमण काल का मंत्र फिट रहें दुरूस्त रहें

कोरोना के संक्रमण से निपटने के लिये प्रशासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के साथ कहीं न कहीं जरूरी है शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बनाये रखना । जरूरत पड़ने  योग्य चिक्त्सिक के परामर्श से औषधि के साथ नियमित रूप से क्षमता अनुसार शारीरिक व्यायाम द्वारा स्वसन-तंत्र को दुरस्त रखने के साथ शरीर में आक्सिजन के लेवल को बनाये रखा जा सकता है ।


सूर्य नमसकार, अनुलोम-विलोम, कपाल भारती एवं भ्रस्त प्राणायाम आदि कुछ ऐसी योग क्रियायें हैं जिनको नियमित रूप से किये जाने से मानसिक संतुलन के साथ स्वसन तंत्र एवं पाचन क्रिया दुरस्त होती हैं । भारत के ऋषि मुनियों के द्वारा योग एवं चीन के बौद्ध भिक्षुओं द्वारा इजहाद की गई फालुन दाफा शारीरिक क्रियाओं के अच्च्छे परिणाम सामने आये हैं ।


योग को हरिद्वार स्थित पतांजली योग संस्थान के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर घर-घर पहुचाने का श्रेय जाता है योग गुरू बाबा राम देव को । आज भारत को विश्व में योग गुरू के नाम से जाना जाता है ।
बौद्ध भिक्षुओं द्वारा साधित घ्यान एवं शारिरिक क्रियाओं पर आधारित फालुन दाफा  का जन्म चीन में हुआ । 114 देशों में 10 करोड़ से भी अधिक आज इसके अनुयाई हैं । बौद्धिक विकास के साथ इस पद्धति मे शारीरिक विकास के लिये पाँच प्रकार के व्यायामों का सामावेश है । नियमित अभ्यास से साधक को बौद्धिक एवं शारीरिक विकास के साथ सत्यएकरूणा एवं सहनशीलता से आत्मसात होता है ।

 

विस्तृत जानकारी के लिये लाग आन करें:

 

www.patanjaliyogsansthan.com

www.falundafa.org www.falundafaindia.org

योगासन एवं शारीरिक क्रियाओं  का अभ्यास जाँच पड़ताल के पश्चात योग्य प्रशिक्षक के सानिध्य में ही किया जाना चाहिये...



 

संपादक

डा. अशोक बड़थ्वाल

Mobile : 91-9811440461

editor@dhanustankar.com

Slideshow

समाचार

1 - बॉर्डर एवं सुनसान इलाकों की चेक पोस्टों पर लगेंगे 180 ऑटोमेटिक नंबर प्लेट डिटेक्शन केमरे

2 - कहीं न कहीं जरूरी है जीएसटी में बदलाव

3 - रोजगार का झांसा देकर किया 23 लाख का झोल

4 - कोरोना संक्रमण काल में अस्पतालों के नवनिर्माण के नाम पर 1256 करोड़ का घोटाला

5 - राजेंद्र नगर से आप प्रत्याशी पर लगा आचार संहिता के उलंघन का आरोप

6 - जगतपुरी की गली नंबर 3 में चल रहा था सट्टे का अवैध अड्डा

7 - डीएसजीएमसी के खातों की न्यायिक जांच की मांग की

8 - नारायणा में बुलडोजर से उजाड़े गयों के अधिकारों की लड़ाई कांग्रेस लड़ेगी

9 - जीएचपीएस स्कूल के मामले में सारी देनदारियों के लिये पूर्व प्रबंधन जवाबदेय

10 - कर्ताधर्ता होने के बावजूद अदालत में मौजूदा प्रबंधन ने जीएसपीएस के स्वामित्व से हाथ खींचे

11 - शहीदी माह में भीषण गर्मी से राहत के लिये छबील सेवा

12 - राज ठाकरे की अयोध्या यात्रा के समर्थन में गुरु माँ कंचन गिरी अपने समर्थकों के साथ मैदान में उतरीं

13 - 15 जरूरतमंद छात्रों की शिक्षा का खर्चा वहन करेगा वर्ल्ड सिख चेंबर ऑफ कामर्स

14 - पटेल नगर में दी गई आग बुझाने की बेसिक ट्रेनिंग

15 - दिल्ली में सरकारी भूमि पर अवैध रूप से कब्जा कर रह रहे घुसपैठियों को नहीं जायेगा बख्शा

16 - डीएमसी अधिनयम के तहत सीलिंग रहा WSCC लीगल सेल की मीटिंग मे चर्चा का मुद्दा

17 - 108 बारी रक्तदान कर कांस्टेबल आशीष दहिया बने स्टार ब्लड डोनर

18 - जल्दी सामने आयेगा डीएसएमसी के अध्यक्ष पद के चुनाव का सच

19 - देश की राजनीति बदलने आये केजरीवाल ने खुद को ही बदल दिया

20 - बुराड़ी की दो झीलों को मिलेगा पुनर्जीवन लिया जा सकेगा प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद

21 - श्री जगन्नाथ हेरिटेज कॉरिडोर परियोजना मंदिर की सुरक्षा के लिये गंभीर चुनौती

22 - शिक्षा के छेत्र मैं एक्युरेट इंस्टीट्यूट के सुनील मिश्रा अमर उजाला उदय संमान से संमानित

23 - 243 युवाओं को नौकरी का ऑफर लेटर

24 - अब असम है आम आदमी पार्टी के निशाने पे

25 - दिल्ली में बुल्डोजर शहर से निकलकर गाँव तक पहुँचा

26 - उच्च स्तरीय सिख सद्भावना बैठक में वर्ल्ड सिख चैंबर ऑफ कॉमर्स के पदाधिकारी भी शामिल

27 - पीड़ित का वकालतनामा नहीं होने से नहीं लग पाई थी प्रबंधन के वकील की अटेंडेंस

28 - कला संग्रह के निर्माण और प्रबंधन पर परिचर्चा

29 - दिल्ली के मात्र 30 फीसदी सरकारी स्कूलों में विज्ञान की शिक्षा की व्यवस्था

30 - सोहनी पंजाबन सीजन 2

31 - डीटीसी बस में लगी आग ने यात्रियों की सुरक्षा पर सवालिया निशान

32 - लाल किले के संग्रहालय में सिख जनरल बाबा बघेल सिंह का इतिहास शामिल किये जाने की मांग

33 - गुरुपर्व समारोह के नाम पर करोड़ों का घपला